अवमानना मामले में CBI के पूर्व अंतरिम निदेशक को मिली सजा, दिनभर कोर्ट के कोने में बैठना होगा

0
169
views

सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई के पूर्व अंतरिम निदेशक नागेश्वर राव को अनोखी सजा सुनाई है. चीफ जस्टिस ने आज कोर्ट की पूरे दिन कार्यवाही खत्म न होने तक नागेश्वर राव को कॉर्नर में बैठने की सजा दी है. इसके अलावा कोर्ट ने नागेश्वर राव पर एक लाख रुपये का जुर्माना लगाया. सुप्रीम कोर्ट ने नागेश्वर राव को बिहार के मुजफ्फरपुर शेल्टर हाउस केस में कोर्ट से बिना अनुमति लिए ट्रांसफर करने पर ये सजा दी है.

मंगलवार को मामले की सुनवाई करते हुए चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने नागेश्वर राव के माफीनामे को नामंजूर कर दिया. इसके साथ ही कोर्ट ने अवमानना का आरोप लगाते हुए कहा कि कोर्ट उठने तक एक कोने में बैठे रहिए. इस मामले नागेश्वर राव को कानूनी सलाह देने वाले अधिकारी वासुरन को भी यही सजा मिली है.

गौरतलब है कि मुजफ्फरपुर शेल्टर हाउस केस की जांच सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में हो रही है. मामले में कोर्ट का आदेश था कि जांच कर रहे CBI अधिकारी एके शर्मा का ट्रांसफर बिना न्यायालय की इजाजत के नहीं किया जाए. लेकिन नागेश्वर राव ने सुप्रीम कोर्ट की अनुमति के बिना एके शर्मा का सीआरपीएफ में ट्रांसफर कर दिया था. इसको लेकर सोमवार को नागेश्वर राव ने सुप्रीम कोर्ट में माफीनामा देकर माफी मांग ली थी.