असम में हुए फर्जी एनकाउंटर मामले में सेना के 7 अफसरों को उम्रकैद

0
354
views

असम में 18 फरवरी 1994 में हुए फर्जी एनकाउंटर मामले में आर्मी कोर्ट ने मेजर जनरल एके लाल समेत 7 सैन्यकर्मियों को उम्रकैद की सजा सुना दी है. 24 साल पुराने फर्जी एनकाउंटर मामले में सजा पाने वालों में मेजर जनरल एके लाल, आरएस सिबिरेन, दिलीप सिंह, कर्नल थॉमस, कैप्टन जगदेव सिंह, नायक अलबिंदर सिंह और नाइक शिवेंद्र सिंह के नाम शामिल हैं. ये फर्जी एनकाउंटर एक चाय के बागान के एक्जीक्यूटिव की हत्या की आशंका को लेकर किया गया था, जिसमें आरोपियों ने 9 युवाओँ को असम के तिनसुकिया से पकड़ा था, हालांकि बाद में 4 युवाओँ को छोड़ दिया गा था, बाकी लोग लापता थे.

इस मामले में पूर्व मंत्री जगदीश भुयन ने हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी, जिसमें फर्जी एनकाउंटर के मामले का मुद्दा उठाया गया था, उस समय सैन्यकर्मियों ने फर्जी एनकाउंटर में 5 लोगों को मार गिराया था, और उन्हें उग्रवादी करार दिया था, बीजेपी नेता जदगीश भुयान ने 22 फरवरी को उसी साल गुवाहाटी हाई कोर्ट में याचिका दायर कर लापता हुए युवाओं के बारे में जानकारी मांगी थी.

मामले को लेकर हाई कोर्ट ने भारतीय सेना को ऑल असम स्टूडेंट्स यूनियन के सभी नेताओं को थाने में पेश करने को कहा था, सेना ने धौला पुलिस स्टेशन मे 5 युवकों के शवों को पेश किया था, जिसके बाद आरोपी सैन्य कर्मियों के खिलाफ कोर्ट मार्शल शुरू किया गया, 27 जुलाई को मामले में फैसला सुरक्षित रखा गया था, जिसके बाद आज फैसला सुनाया गया.