उज्ज्वला से भारत बना दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा LPG उपभोक्ता

0
231
views

केंद्र सरकार की हर परिवार को स्वच्छ रसोई गैस ईंधन उपलब्ध कराने की पहल से भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा एलपीजी उपभोक्ता बन गया है. भारत से आगे केवल अब चीन है. पेट्रोलियम सचिव एम एम कुट्टी ने मंगलवार को कहा कि देश में एलपीजी की मांग 2025 तक 34 फीसदी बढ़ने का अनुमान है.

एशिया एलपीजी सम्मेलन को संबोधित करते हुए पेट्रोलियम सचिव एम एम कुट्टी ने कहा कि एलपीजी उपभोक्ताओं की संख्या में सालाना आधार पर 15 फीसदी वृद्धि हुई है. उन्होंने बताया कि साल 2014-15 में एलपीजी उपभोक्ताओं की संख्या 14.8 करोड़ थी, जो 2017-18 में बढ़कर 22.4 करोड़ हो गई.

पेट्रोलियम सचिव ने कहा कि जनसंख्या में तेज बढ़ोतरी के अलावा गांवों और ग्रामीण क्षेत्रों में एलपीजी पहुंच बढ़ने से एलपीजी उपभोग में औसतन 8.4 फीसदी वृद्धि हुई है. इससे 2.25 करोड़ टन के साथ भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा एलपीजी उपभोक्ता बन गया है. पेट्रोलियम मंत्रालय के मुताबिक 2025 तक एलपीजी उपभोग बढ़कर 3.03 करोड़ टन पर पहुंच जाएगा. 2040 तक यह आंकड़ा 4.06 करोड़ टन होगा.

पेट्रोलियम सचिव एम एम कुट्टी ने कहा कि सरकार ने देशभर में एलपीजी के उपभोग को प्रोत्साहन देने के लिए कई कदम उठाए हैं. मुख्य रूप से ग्रामीण परिवारों में एलपीजी उपभोग को प्रोत्साहन दिया जा रहा है. उन्होंने कहा कि ग्रामीण परिवार परंपरागत ईंधन पर निर्भर रहते हैं जो उनकी सेहत को तो नुकसान पहुंचाता ही है साथ ही इससे प्रदूषण भी बढ़ता है. उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना (पीएमयूवाई) के तहत 6.31 करोड़ कनेक्शन उपलब्ध कराए गए हैं, यह योजना एक मई, 2016 को शुरू हुई थी.

वहीं सम्मेलन को संबोधित करते हुए पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि उज्ज्वला योजना मई 2016 में शुरू हुई थी. इसके तहत तीन साल में पांच करोड़ गरीब महिलाओं को एलपीजी कनेक्शन उपलब्ध कराने का लक्ष्य रखा गया है. उन्होंने बताया कि अब तक छह करोड़ गरीब महिलाओं को एलपीजी कनेक्शन दिया जा चुका है और अब 2020 तक 8 करोड़ कनेक्शन देने का लक्ष्य रखा गया है.

इसके साथ ही पेट्रोलियम मंत्री धमेंद्र प्रधान ने कहा कि देश में एलपीजी की पहुंच 90 फीसदी पर पहुंच गई है, यह संख्या 2014 में 55 प्रतिशत थी. उन्होंने कहा कि हमें 8 करोड़ के अपने लक्ष्य को हासिल कर लेने की उम्मीद है.