जालंधर : पिता की दिखाई एक वीडियो से दो भाइयों ने चलाई खास मुहिम

0
200
views

दो भाई आदित्य मित्तल और आयान मित्तल। उम्र महज 15 और 10 साल, पर अंगदान के प्रति ऐसी अनोखी जागरूकता मुहिम चलाई है कि अब एक हजार के करीब बच्चे इसमें योगदान देने लगे हैं। अंगदान से अनमोल जिंदगियों को बचाया जा सके, इसके लिए आदित्य और आयान इन दिनों शहर के स्कूलों व कॉलेजों में अंगदान के प्रति विद्यार्थियों तथा शिक्षकों को जागरूक कर रहे हैं।

ये दोनों लवली स्वीट्स के डायरेक्टर नरेश मित्तल और सोनल मित्तल के बेटे हैं। वे कहते हैं कि देश में रक्तदान के प्रति अब अधिकांश लोग जागरूक हो चुके हैं। अंगदान के प्रति लोग अभी ज्यादा जागरूक नहीं हैं। एक व्यक्ति अंगदान करके आठ लोगों की जान बचा सकता है। जनसंख्या में भारत विश्व में दूसरे नंबर है। इसके बावजूद यह अंगदान में अंतिम रैंक पर है

देहरादून के रेजिडेंशियल स्कूल दून में दसवीं के छात्र आदित्य कहते हैं कि वे छुट्टियों में घर आए थे। पिता नरेश मित्तल ने एक वीडियो दिखाई। उसमें एक ब्राजीलियन मिलेनियर अपनी नई विटेंज गाड़ी को अपने घर के लॉन में दफना रहा था। इसकी लोगों और मीडिया ने बड़ी आलोचना की थी। बकौल आदित्य, शुरू में तो मुझे भी बहुत खराब लगा था कि यह व्यक्ति क्या कर रहा है। पागल ही होगा, जो अपनी नई कार को ऐसे दफन कर रहा है।

वीडियो में दिखाया था कि ब्राजीलियन मिलेनियर ने मीडिया और लोगों को अपने घर बुलाया। फिर कहा कि मैं तो अपनी कार दफन कर रहा था, तो आप इतनी उसकी आलोचना कर रहे हैं। आप उनकी आलोचना क्यों नहीं करते जो व्यक्ति के मर जाने के बाद उसके शरीर को दफन कर देते हैं। उसके अंग भी तो किसी का जीवन बचा सकते हैं..। उसका यह संदेश दिमाग में बैठ गया। मैंने मन में ठान लिया कि लोगों में अंगदान के प्रति जागरूकता लाने के लिए कुछ करना है।