जालंधर में गिरफ्तार आतंकियों के मामले की जांच NIA को सौंपी गई

0
343
views

जालंधर में गिरफ्तार किए गए अंसार गजवत-उल-हिंद के आतंकियों के मामले की जांच एनआईए को सौंप दी गई है. अब इस मामले में एनआईए, पंजाब पुलिस और जम्मू-कश्मीर पुलिस संयुक्त तौर पर जांच कर रही है. सीटी इंस्टीट्यूट से पकड़े तीन कश्मीरी आतंकियों से रिमांड के दौरान पलिस को अहम सुराग हाथ लगे थे.

बता दें कि जालंधर के मकसूदां थाना बम ब्लास्ट केस में पुलिस ने 5 नवंबर को शहर के सेंट सोल्जर कॉलेज में छापेमारी कर दो कश्मीरी आतंकियों को गिरफ्तार किया. हालांकि दो अन्य आतंकी फरार हो गए. दोनों की पहचान शहीद क्यूब और फैजल वासिर के तौर पर हुई. इनका संबंध जाकिर मूसा के संगठन से हैं.
पुलिस पूछताछ में दोनों आतंकियों ने मकसूदां थाने में दो महीने पहले हुए बम धमाकों को लेकर बड़ा खुलासा किया था. उन्होंने बताया था कि ये बम धमाके अलकायदा के पूर्व कमांडर आतंकी जाकिर मूसा के गुर्गों ने करवाए थे.

पुलिस कमिश्नर गुरप्रीत सिंह भुल्लर के मुताबिक दोनों ने पूछताछ में बताया कि आतंकी संगठन अंसार गजवा तुल हिंद कश्मीर में अपना नेटवर्क तैयार कर रहा था. इस दौरान शाहिद क्यूम और फैजल संगठन के संपर्क में आ गए, संगठन ज्वॉइन करने के बाद दोनों जालंधर आ गए और यहां से सोशल मीडिया के जरिए अपने आका के संपर्क में रहे.

दोनों ने पूछताछ में बताया कि 13 सितंबर को मकसूदां थाने की पूरी रैकी की और धमाकों की योजना तैयार की. 14 सितंबर को चारों शाम को मकसूदां थाने के समीप पहुंचे और हैंड ग्रेनेड थाने के भीतर फेंक दिए. हालांकि इनका कहना है कि ये तो सिर्फ साथ आए थे बम इन्होंने नहीं फेंके. बम फेंकने वाले इनके साथी अभी फरार हैं.