टीम इंडिया की मांग, 2019 विश्व कप के दौरान पूरे समय मिले पत्नियों का साथ

0
381
views

इंग्लैंड में वर्ल्ड कप के शुरू होने में करीब 7 महीने ही बचे हैं. ऐसे में टीम इंडिया तीसरी बार चैंपियन बनने की तैयारियों में जुटी हुई है. इंग्लैंड में होने वाले विश्व कप को लेकर टीम इंडिया ने अपनी जरूरतों के बारे में बताया है. टीम ने विश्व कप के दौरान पूरे समय अपनी पत्नियों का साथ मिलने की मांग रखी है. इसके अलावा उन्होंने एक रिजर्व ट्रेन कोच और केले की भी मांग की है.

हाल ही में हैदराबाद में हुई समीक्षा बैठक में सीओए से कहा गया कि विश्व कप के दौरान खिलाड़ियों को अपनी पत्नियों को साथ रखने की इजाजत दी जाए. वहीं सड़क यातायात की जगह ट्रेन से सफर करने की छूट दी जाए और अन्य फलों के साथ नाश्ते में केले की जरूर व्यवस्था की जाए.

कुछ महीने पहले टीम इंडिया का इंग्लैंड दौरा अच्छा नहीं बीता था. भारतीय टीम ने इंग्लैंड में अपने दौरे की शुरुआत तो टी-20 सीरीज की जीत के साथ की थी, लेकिन उसके बाद वह वनडे और टेस्ट दोनों सीरीज हार गई. उसी दौरे को लेकर कुछ दिन पहले हैदराबाद में समीक्षा बैठक हुई थी. बैठक में कप्तान विराट कोहली सहित अजिंक्य रहाणे, रोहित शर्मा, कोच रवि शास्त्री और चयन समिति के अध्यक्ष एमएसके प्रसाद शामिल हुए थे.

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक सीओए केले की मांग जानकर हैरान रह गया, सूचना मिली है कि इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड दौरे के दौरान भारतीय क्रिकेटरों द्वारा पंसदीदा फल की मांग को पूरा नहीं कर सका था. हालांकि, खिलाड़यों की मांग पर सीओए ने कहा कि बीसीसीआई के खर्च पर केले खरीदने के लिए टीम मैनेजर को बताया जाना चाहिए था.

सीओए के सामने दूसरी मांग विश्व कप के लिए ट्रेन की यात्रा को प्राथमिकता देने की हुई. सीओए ने पहले नहीं माना, लेकिन कोहली ने जोर देकर कहा कि इंग्लैंड के खिलाड़ी खुद भी ट्रेन में सफर करते हैं. सूत्र ने बताया कि सीओए चिंतित थी कि ट्रेन में खिलाड़ियों को फैंस कहीं न घेर लें. हालांकि, जोर देने पर सीओए इस शर्त पर सहमत जरूर हुई, लेकिन साथ ही कहा कि अगर कोई अप्रिय घटना होती है तो इसके लिए फिर सीओए या बोर्ड को जिम्मेदार नहीं ठहराया जाएगा.

इसके अलावा दौरे के दौरान पत्नियों को साथ रखने संबंधी प्रोटोकॉल को लेकर भी चर्चा हुई. इस मांग पर सीओए ने टीम इंडिया से कहा कि वह कोई भी फैसला लेने से पहले टीम के सभी सदस्यों से लिखित में सहमति मांगेगा. सीओए की सदस्य डायना इडुल्जी ने कुछ दिन पहले कहा था कि इस मामले में जल्दबाजी में कोई फैसला नहीं लिया जाएगा.