भारत ने श्रीलंका को दिया था हमले का अलर्ट, पर नहीं हुई कोई कार्रवाई

0
185
views

कोलंबो बम ब्लास्ट में 300 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई. इन हमलों को लेकर भारत ने श्रीलंका को सतर्क किया था. लेकिन भारत की इस चेतावनी पर श्रीलंका के प्रशासन ने गौर नहीं फरमाया.

  • श्रीलंका के प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने खुद इस बात को कबूल किया कि भारत ने श्रीलंका के साथ खुफिया जानकारी शेयर की थी, लेकिन इस पर कार्रवाई करने को लेकर हमसें लापरवाही हुई.
  • विक्रमसिंघे ने कहा कि भारत ने खुफिया जानकारी दी थी, लेकिन हम इस पर कैसे कार्रवाई करें, इसको लेकर लापरवाही हुई.
  • खुफिया जानकारी नीचे तक नहीं पहुंची, साथ ही उन्होंने कहा कि श्रीलंका के जांचकर्ता पाकिस्तान और चीन सहित कई देशों के साथ संपर्क में थे.
  • सूत्रों के मुताबिक भारतीय खुफिया अधिकारियों ने पहले विस्फोट से करीब 2 घंटे पहले अपने श्रीलंकाई समकक्षों से संपर्क किया था और हमले को लेकर आगाह किया था.
  • इस अलर्ट में उन्होंने साफ तौर पर कहा था कि हमलावर विशेष तौर पर गिरिजाघरों पर हमला कर सकते हैं.

आपसी झगड़े से हुई बड़ी चूक

  • श्रीलंकाई मीडिया और वहां के कुछ मंत्रियों ने कहा है कि राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के आपसी झगड़े के चलते देश में इतनी बड़ी सुरक्षा चूक हुई और इंटेलीजेंस इनपुट के बावजूद उस पर गौर नहीं किया गया.
  • इसका फायदा आतंकियों ने उठाया और एक साथ कई धमाके कर वे आसानी से चलते बने.
  • श्रीलंकाई संसद के नेता (नेता पक्ष) लक्ष्मण किरेला ने बुधवार को कहा कि देश के वरिष्ठ अधिकारियों ने हमले की सूचना दबा दी जिस कारण ऐसे घातक हमले हुए.
  • हमले की पुख्ता जानकारी होने के बावजूद सुरक्षा अधिकारियों ने समुचित कार्रवाई नहीं की.
  • उन्होंने कहा कि 4 अप्रैल को भारत ने इंटेलीजेंस अलर्ट दिया था जिस पर 7 अप्रैल को राष्ट्रपति मैत्रिपाल सिरीसेन ने सुरक्षा परिषद की बैठक भी ली लेकिन इससे जुड़ी सूचनाएं आगे नहीं बढ़ाई जा सकीं.