मल्टीप्लेक्स में फिल्म देखना हो सकता है महंगा

0
138
views

मल्टीप्लेक्स में जाकर फिल्म देखना अब महंगा हो सकता है, फिल्म देखने के लिए आपको अपनी जेब थोड़ औऱ ढीली करनी पड़ सकती है, दरअसल मल्टीप्लेक्स में खाने-पीने का सामान ले जाने को लेकर हाईकोर्ट में याचिका दायर की गई जिसमें सुनवाई हो रही है, और अगर कोर्ट मल्टीप्लेक्स में खाने-पीने का सामान ले जाने की इजाजत देता है तो जाहिर है मल्टीप्लेक्स टिकटों के दामों में इजाफा कर सकते हैं

  • आपको पहले के मुकाबले 20-40 फीसदी तक अधिक कीमत चुकानी पड़ेगी
  • मल्टीप्लेक्स में फूड और बेवरेज ले जाने की इजाजत को लेकर बाम्बे हाईकोर्ट में सुनवाई चल रही है
  • इजाजत मिलने के बाद मल्टीप्लेक्स के रेवन्यू में कमी आएगी,
  • जिसकी भरपाई मल्टीप्लेक्स वाले निश्चित रूप से टिकट के दाम बढ़ाकर ही करेंगे
  • यानी कि अभी अगर सिनेमा के टिकट के लिए आप 200 रुपए देते हैं तो  आपको 240-280 रुपए तक देने पड़ सकते हैं.

सभी दर्शकों के चुकानी होगी ज्यादा कीमत
देश के सभी जाने माने बड़े मल्टीप्लेक्स के कुल कारोबार में फूड और बेवरेज की हिस्सेदारी 30 फीसदी से अधिक है. चालू वित्त वर्ष 2018-19 की पहली तिमाही (अप्रैल-जून) में एक बड़े मल्टीप्लेक्स ने 684.36 करोड़ रुपए का कारोबार किया और इनमें फूड एवं बेवरेज की हिस्सेदारी 202.71करोड़ रुपए की थी.

सूत्रों के मुताबिक कई ऐसे दर्शक होते हैं तो मल्टीप्लेक्स में फूड और बेवरेज के महंगे होने की वजह से सिर्फ सिनेमा देखते है, कुछ खाते-पीते नहीं है. लेकिन अगर फूड और बेवरेज ले जाने की इजाजत मिलती है तो निश्चित रूप से टिकट के दाम बढेंगे जिसकी कीमत सभी दर्शकों को चुकानी होगी.

 

दरअसल एक याचिका पर सुनवाई करते हुए मुंबई हाईकोर्ट ने सिनेमा मालिकों से सवाल किया था कि, आप थिएटर में खाने का सामान ले जाने की परमिशन क्यों नहीं देते. जिसके जवाब में सिनेमा मालिकों ने सुरक्षा का हवाला देते ऐसा कर रहे हैं, फिर कोर्ट ने सवाल किया कि आप थिएटर में 5 रुपए के पोपकोर्न को 100 रुपए में कैसे बेच सकते है, सभी को मल्टीप्लेक्स में खाने का सामान ले जाने की इजाजत मिलनी चाहिए, या फिर मल्टीप्लेक्स में बेचे जाने वाले सामान को सस्ती दरों में दिया जाए.