युवाओं को नौकरी देने के लिए अलग नीति बनाएगी हरियाणा सरकार

0
90
views

चुनावी मोड में आ चुकी प्रदेश सरकार ने युवाओं और किसानों पर खास फोकस किया है। प्रदेश में पहली बार 15 से 29 साल के युवाओं के विकास के लिए हरियाणा राज्य युवा नीति को मंजूरी मिली है। आर्थिक रूप से पिछड़ों को सरकारी नौकरियों और शिक्षण संस्थाओं में दाखिलों में दस फीसद आरक्षण मिलेगा। खिलाडिय़ों के लिए सोनीपत के राई में खेल विश्वविद्यालय बनाया जाएगा। राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में पड़ते तेरह जिलों के किसानों को एक साल के लिए दस साल पुराने ट्रैक्टर व कंबाइन चलाने की छूट दी गई है

मुख्यमंत्री मनोहर लाल की अगुवाई में हुई कैबिनेट की बैठक में करीब दो दर्जन से अधिक अहम फैसले लिए गए। कैबिनेट ने नई युवा नीति पर मुहर लगा दी है। युवाओं के मार्गदर्शन एवं सहयोग के लिए मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में एक उच्चाधिकार समिति बनाई गई है जिसमें सभी विभागों के मंत्री, मुख्य सचिव, प्रधान सचिव, वित्त सचिव सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी सदस्य होंगे।

इसके अलावा मुख्य सचिव की अध्यक्षता में एक टॉस्क फोर्स गठित की जाएगी जो राज्य, जिला तथा ब्लॉक स्तर पर युवाओं की उन्नति के रास्ते खोलेगी। जल्द ही युवाओं को शिक्षित और सशक्त बनाने के कार्यक्रमों की निगरानी के लिए राज्य युवा आयोग का गठन किया जाएगा।

हरियाणा की सभी सरकारी नौकरियों में भर्ती और शैक्षणिक संस्थानों में दाखिलों में आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों को दस फीसद आरक्षण मिलेगा। पांच एकड़ से कम जमीन, एक हजार वर्ग फीट से कम के फ्लैट, नगर पालिकाओं में 100 गज से कम मकान और अन्य क्षेत्रों में 200 वर्ग गज से कम भूखंड के मालिक इस श्रेणी में पात्र होंगे

खिलाडिय़ों को अंतरराष्ट्रीय स्तर की सुविधाएं दिलाने के लिए राई के स्पोट्र्स सेंटर को विकसित कर हरियाणा की पहली स्पोट्र्स यूनिवर्सिटी बनाई जाएगी। खेल विश्वविद्यालय में खिलाडिय़ों को खेलों से संबंधित विभिन्न रोजगार के लिए तैयार किया जाएगा। इनमें खेल विज्ञान, फिजियोथैरपी तथा खेल चिकित्सा संबंधी रोजगार के अवसर भी शामिल होंगे। इसके लिए विश्वविद्यालय में अलग से एक प्रशिक्षण संस्थान बनाया जाएगा। राज्यपाल इस विश्वविद्यालय के संरक्षक होंगे तथा किसी अंतरराष्ट्रीय स्तर के विख्यात खिलाड़ी को कुलाधिपति बनाया जाएगा।