सबरीमाला मंदिर के कपाट खुले, केरल में बंद का ऐलान

0
312
views

केरल के सबरीमाला मंदिर में सुप्रीम कोर्ट की ओर से महिलाओं के प्रवेश की इजाजत के बाद बुधवार को पहली बार इसके कपाट खुले. श्रद्धालु रात 10:30 बजे तक वहां पूजा कर सकते हैं. इसके अलावा मंदिर के द्वार 22 अक्टूबर तक खुले रहेंगे.

मंदिर में 10 से 50 साल तक की महिलाओं के प्रवेश के लिए बुधवार को काफी हंगामा हुआ और हजारों महिलाओं ने मंदिर में प्रवेश की नाकाम कोशिशें की. हालांकि, मंदिर के श्रद्धालुओं ने उन्हें रोका, वहां मारपीट हुई और काफी हिंसा भी हुई.

इस सब के बीच भी महिलाएं बुधवार को मंदिर की सीढ़ियों तक पहुंच गई थीं. अब गुरुवार को कोशिश इससे भी आगे जाने की हो रही है. बुधवार को भी वह मंदिर की तरफ जाने की कोशिश कर रही थीं, लेकिन प्रदर्शनकारियों ने उन्हें रोक दिया था. अब आज वह कड़ी सुरक्षा के बीच पहाड़ी के रास्ते से मंदिर जा रही थीं. लेकिन उन्हें वापस जाने को कहा गया, वह खुद भी मान गई. उन्होंने कहा कि वह यहां पर कोई मुसीबत नहीं खड़ी करना चाहती हैं.

सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के बाद पहली बार 17 अक्टूबर शाम 5 बजे जब कपाट खुले तो पूरे देश की नजरें मंदिर पर टिकी थीं. उससे पहले वहां काफी हंगामा हुआ. सबरीमाला मंदिर में बुधवार को 50 साल से ज्यादा उम्र की महिलाओं ने ही प्रवेश किया. सुरक्षा कारणों के चलते 10-50 साल की उम्र के बीच की महिलाएं मंदिर तक नहीं पहुंचीं. बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने 10 से 50 साल की महिलाओं को मंदिर में प्रवेश से रोकने की सदियों पुरानी परंपरा को गलत बताते हुए उसे खत्म कर दिया था और सभी आयुवर्ग की महिलाओं को प्रवेश करने की इजाजत दी थी.

इससे पहले सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश की इजाजत नहीं थी. सुप्रीम कोर्ट ने 28 सितंबर को इसे असंवैधानिक करार देते हुए कहा था कि महिलाओं का मंदिर में प्रवेश न मिलना उनके मौलिक और संवैधानिक अधिकारों का उल्लंघन है. जिस पर विवाद हो रहा है. मंदिर से जुड़े लोग और स्वामी अयप्पा के अनुयायी इस फैसले को उनकी आस्था के खिलाफ बता रहे हैं.