साईं समाधि के 100 साल पूरे होने पर खास कार्यक्रम, PM मोदी ने की विशेष पूजा

0
541
views

शिरडी के साईं बाबा को समाधि लिए आज 100 साल पूरे हो गए हैं, इस मौके पर शिरडी में खास कार्यक्रम का आयोजन किया गया. इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस शामिल हुए. इससे पहले पीएम मोदी ने साईं बाबा समाधि मंदिर में दर्शन किए.

शिरडी में पीएम मोदी

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यहां मंदिर की विजिटर बुक में अपने विचार भी लिखे.
  • प्रधानमंत्री ने इस अवसर पर साईं बाबा की याद में चांदी का सिक्का जारी किया.
  • पीएम मोदी ने शिरडी में कई विकास परियोजनाओं को लॉन्च किया.
  • पीएम मोदी ने प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना के लाभर्थियों को चाभी सौंपी.
  • इस कार्यक्रम के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यहां एक रैली को संबोधित किया.

रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हम सभी का ये प्रयास रहता है कि हर पर्व को अपनों के साथ मनाएं. मेरी भी ये कोशिश रहती है कि हर त्योहार देशवासियों के साथ मनाऊं और इसी भावना के साथ आज आप सभी के बीच उपस्थित हुआ हूं.

पीएम मोदी ने कहा कि मुझे खुशी है कि दशहरे के इस पावन अवसर पर मुझे महाराष्ट्र के ढाई लाख बहनों-भाइयों को अपना घर सौंपने का अवसर मिला है. शिरडी के 2 लाख से ज्यादा लोगों का घर का सपना आज पूरा हुआ. मेरे वो भाई बहन जिनके लिए अपना घर, हमेशा सपना ही रहा है.

पीएम मोदी बोले कि अपना घर जीवन को आसान बना देता है और गरीबी से लड़ने का नया उत्साह पैदा करता है. इसी को ध्यान में रखते हुए सरकार ने 2022 तक देश के हर बेघर-गरीब परिवार को अपना घर देने का लक्ष्य रखा है. मुझे खुशी है कि करीब-करीब आधा रास्ता हम तय कर चुके हैं. उन्होंने कहा कि गरीब हो या मध्यम वर्ग का परिवार, बीते चार वर्षों से उसे झुग्गी से, किराए के मकान से निकालकर, अपना घर देने की तरफ सरकार ने गंभीर प्रयास किए हैं.

इस दौरान उन्होंने कांग्रेस पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा कि पहले की सरकार में 1 मकान बनाने में कम से कम 18 महीने लगते थे, हमारी सरकार में घर बनाने में इससे कम वक्त लगता है. पीएम मोदी ने कहा कि पिछली सरकार ने 4 साल में 25 लाख घर बनवाए थे, जबकि हमारी सरकार ने 4 साल में 1 करोड़ 25 लाख घर बनाए हैं. पिछली सरकार का काम एक खास परिवार के नाम का प्रसार करना था, केवल वोट बैंक तैयार करना था.

1918 में ली थी समाधि

शिरडी के साईं की प्रसिद्धि दूर दूर तक है और ये पवित्र धार्मिक स्थल महाराष्ट्र के अहमदनगर के शिरडी गांव में स्थित है. सभी समुदायों में पूजनीय साईंबाबा का देहावसान 1918 में दशहरा के ही दिन अहमद नगर जिले के शिरडी गांव में हुआ था. शिरडी के साईं बाबा का वास्तविक नाम, जन्मस्थान और जन्म की तारीख किसी को पता नहीं है. हालांकि साईं का जीवनकाल 1838-1918 तक माना जाता है.