सुरेश प्रभु को सुब्रमण्यम स्वामी का सुझाव, जेट एयरवेज का एयर इंडिया में मिलना बेहतर रास्ता

0
215
views

बीजेपी के वरिष्ठ नेता डॉ. सुब्रमण्यम स्वामी ने जेट एयरवेज को बचाने के लिए नागर विमानन मंत्री सुरेश प्रुभ को लेटर लिखकर सुझाव दिया है. स्वामी का कहना है कि अब यही एक मात्र रास्ता बचा है कि जेट एयरवेज का एयर इंडिया में विलय कर दिया जाए और एयर इंडिया को भी सुचारु तरीके से चलाया जाए. स्वामी ने विदेशी एयरलाइंस एतिहाद के जेट में निवेश पर भी सवाल उठाते हुए कहा है कि यह राष्ट्रीय हितों के खिलाफ है.

केंद्रीय मंत्री सुरेश प्रभु को लिखे लेटर में सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा है, ‘आप लोकसभा चुनाव में व्यस्त होंगे. लेकिन यह मामला काफी अर्जेंट है. जेट एयरवेज के बंद होने से यात्रियों को काफी दिक्कतें होने वाली हैं. देश में हवाई यात्रियों की संख्या निरंतर बढ़ रही है और इसमें हिस्सेदारी बढ़ाने के लिए विदेशी एयरलाइंस अपनी नजरें गड़ाए हुए हैं. इसलिए ऐसे समय में जेट को बंद कर देना यात्रियों के लिए काफी नुकसानदेह हो सकता है.’

स्वामी ने कहा कि उन्होंने जेट में एतिहाद के एफडीआई का इस आधार पर विरोध किया था कि इसमें एतिहाद को ज्यादा एयरस्पेस दिया जा रहा है. यह घरेलू यात्रियों के हितों के लिए तो अनुचित है ही, राष्ट्रीय हितों के लिहाज से भी उचित नहीं है.

स्वामी ने अपने लेटर में लिखा है, ‘जेट में एतिहाद के निवेश और भारत-यूएई के बीच हवाई सेवाओं के लिए समझौते से एयर इंडिया को नुकसान हुआ है. सरकारी एयरलाइंस एयर इंडिया के पास भारी एसेट है और यह काफी कीमती है. जेट की खस्ता हालत का विस्तारा और स्पाइसजेट जैसे दूसरे निजी एयरलाइंस फायदा उठाने की कोशिश कर रहे हैं. इसलिए मेरा सुझाव है कि एयर इंडिया में राष्ट्रीय निवेश एवं बुनियादी ढांचे की इस लूट को रोका जाए. मेरा मंत्रिमंडल के लिए यह मजबूत सुझाव है कि जेट एयरवेज का एयर इंडिया में विलय कर दिया जाए ताकि जेट की सेवाएं भी बंद न हों और एयर इंडिया अपने पुराने गौरव को हासिल करे.’