पंचकूला : पत्रकार रामचंद्र छत्रपति हत्याकांड में आज आ सकता है फैसला

0
261
views

सिरसा के पत्रकार रामचंद्र छत्रपति केस में 11 जनवरी को आ रहे फैसले पर हरियाणा पुलिस ने सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी है.

  • सिरसा शहर और रोहतक की सुनारिया जेल के बाहर पुलिस ने जवानों की तैनाती कर दी है.
  • बुधवार को पुलिस ने सिरसा डेरा सच्चा सौदा के आसपास फ्लैग मार्च निकाला.
  • DSP रविंद्र तोमर के नेतृत्व में फ्लैग मार्च निकाला गया.
  • वहीं डेरे को पहले ही सुरक्षा के मद्देनजर शांति बनाए रखने की हिदायत दी गई है
  • जिला उपायुक्त प्रभजोत सिंह का कहना है कि पुलिस की 12 कंपनियां फैसले से एक दिन पहले मोर्चा संभाल लेगी.
  • इस बार उन जगह विशेष रुप से पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है, जहां साध्वी यौन शोषण मामले में फैसला आने के बाद हिंसा हुई थी.

जज जगदीप सिंह ही सुनाएंगे फैसला

  • 16 वर्ष पुराने पत्रकार रामचंद्र छत्रपति हत्याकांड मामले में आज फैसला आ सकता है
  • इस मामले की सुनवाई पिछले सप्ताह ही पूरी हुई है.
  • खास बात ये है कि साध्वी दुष्कर्म मामले में गुरमीत सिंह राम रहीम को सजा सुनाने वाले जज जगदीप सिंह ही इस हत्याकांड में फैसला सुनाएंगे.

जिला उपायुक्त ने डेरा सच्चा सौदा को हिदायत दी है कि वे डेरे के एंट्री गेट और सत्संग घर की वीडियोग्राफी करवाएंगे. इस दौरान डेरे में कौन अंदर आया और कौन बाहर गया, इसकी सूचना मांगी गई है. वहीं डेरा सच्चा सौदा ने भी पूरा आश्वासन दिया है कि वे प्रशासन का पूरा सहयोग करेंगे.

क्या है पूरा मामला

पत्रकार रामचंद्र छत्रपति हत्याकांड 16 साल पुराना है. दरअसल, 2002 में पत्रकार रामचंद्र छत्रपति की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. वो लगातार अपने समाचार पत्र में डेरे में होने वाले अनर्थ से जुड़ी ख़बरों को छाप रहे थे. पत्रकार के परिवार ने इस संबंध में मामला दर्ज कराया था. उनकी याचिका पर अदालत ने इस हत्याकांड की जांच नवंबर 2003 को CBI को सौंप दी थी. 2007 में CBI ने कोर्ट में चार्जशीट दाखिल करते हुए डेरा मुखी गुरमीत सिंह राम रहीम को हत्या की साजिश रचने का आरोपी माना था.