चंडीगढ़ से बठिंडा भेजे गए 254 पासपोर्ट गायब

0
187
views

पासपोर्ट गायब होने का एक अजीबोगरीब मामला सामने आया. चंडीगढ़ से बठिंडा के लिए दो हफ्ते पहले डिस्पैच किए गए 254 पासपोर्ट लुधियाना तो पहुंचे, लेकिन बठिंडा पासपोर्ट दफ्तर तक नहीं पहुंचे पाए.  बीच रास्ते से ही पासपोर्ट गायब हो गए. इस पार्सल में बठिंडा और मानसा के लोगों के पासपोर्ट डिसपैच किए गए थे.

15 जनवरी को डिस्पैच हुए थे पासपोर्ट

चंडीगढ़  पासपोर्ट ऑफिस से 15 जनवरी को पासपोर्ट डिस्पैच होते ही आवेदकों को रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर उनके पासपोर्ट भेजे जाने की सूचना दे दी गई थी. जब पांच दिन तक पासपोर्ट नहीं पहुंचे तो आवेदकों ने डाकघर और मुख्य डाकघर बठिंडा में अपने पासपोर्ट की जांच शुरू की , लेकिन डाकघर से उन्हें पासपोर्ट नहीं पहुंचने की ही सूचना मिली .  सभी पासपोर्ट चंडीगढ़ से सीधे आवेदकों के पते पर ही डिस्पैच किए गए थे.  22 जनवरी को डाकघर के डिविजनल सुपरिंटेंडेंट ने पासपोर्ट डिस्पैच के संबंध में छानबीन शुरू करवाई तो पता चला कि चंडीगढ़ से भेजे गए पासपोर्ट लुधियाना तो पहुंचे लेकिन लुधियाना से आगे गुम हो गए. डाकघर विभाग लुधियाना से डिस्पैच किए पासपोर्ट की डिटले मंगवा कर जांच कर रहा है.

पार्सल में मानसा और बठिंडा के पासपोर्ट

इस संबंध में डिविजनल सुपरिंटेंडेंट गोपाल कृष्ण का कहना है कि उन्होंने कोतवाली थाना में 254 लोगों के पासपोर्ट चोरी होने की शिकायत दी है। पुलिस भी मामले की जांच कर रही है। साथ ही डाक न पहुंचने की शिकायत चंडीगढ़ पासपोर्ट ऑफिस में भी दर्ज करवाई गई है। बठिंडा के दिनेश जिंदल का कहना है कि पासपोर्ट न मिलने से उनकी विदेश जाने के दस्तावेजों की फाइल तैयार नहीं हो पा रही है. कोई रास्ता भी नहीं बता रहा कि अब क्या किया जाए? पासपोर्ट जैसे महत्वपूर्ण दस्तावेज का कोई दुरुपयोग भी कर सकता है.  मानसा के गाव माहीनंगल के हरप्रीत सिंह का कहना है कि पोस्ट ऑफिस वाले चंडीगढ़ बात करने को कह रहे हैं, जबकि चंडीगढ़ वाले डाकघर में पता करने की बात कर रहे हैं। दोनों ही विभाग अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ रहे हैं.