दिल्ली : 28 अक्टूूबर से DTC और क्लस्टर में महिलाओं को फ्री सफर-CM अरविंद केजरीवाल

0
178
views

स्वतंत्रता दिवस के मौके पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि रोजमर्रा के काम में हमें देश याद नहीं रहता. जब भारत-पाकिस्तान का मैच होता है तब देश की याद आती है. स्कूलों में सभी सब्जेक्ट पढ़ते हैं, लेकिन देश भक्ति का जज्बा नहीं पढ़ाया जाता. सभी स्कूलों में देश भक्ति का पाठ्यक्रम होगा.

  • अरविंद केजरीवाल ने महिलाओं की फ्री यात्रा का भी जिक्र किया.
  • अरविंद केजरीवाल ने कहा कि 29 अक्टूबर से दिल्ली की सभी DTC और क्लस्टर बसों में महिलाओं के लिए मुफ्त यात्रा की व्यवस्था शुरू की जाएगी.
  • फ्री मेट्रो की तैयारियां की जा रही हैं.
  • मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि आजादी के 72 साल बाद हम कल्पना भी नहीं कर सकते कि कितने बलिदान दिए गए हैं.
  • बाबा साहेब भीम राव अंबेडकर और राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने लंबा संघर्ष किया है.
  • ऐसे में हमें रोजमर्रा के दिनों में देश याद नहीं रहता. देश की याद तब आती है जब भारत और पाकिस्तान के बीच मैच खेला जा रहा होता है.
  • मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि स्कूलों में सभी सब्जेक्ट पढ़ाए जाते हैं लेकिन देशभक्ति का जज्बा नहीं पढ़ाया जाता.
  • 4 साल से देश भावना बढ़ाने के लिए हम प्रयासरत हैं.
  • मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अपने भाषण में दिल्ली की शिक्षा व्यवस्था का भी जिक्र किया.
  • मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में शिक्षा क्रांति हुई है, यह अपने आप में ऐतिहासिक है.
  • दिल्ली में 3 चीजें हासिल की गई हैं. सरकारी स्कूलों का इन्फ्रास्ट्रक्चर प्राइवेट स्कूलों से बेहतर है. क्लास रूम, स्विमिंग पूल और प्ले ग्राउंड सरकारी स्कूलों में भी बनाए गए हैं.
  • सरकारी स्कूलों के नतीजे प्राइवेट स्कूलों से बेहतर आए हैं. शिक्षा में लोगों का विश्वास पैदा हुआ है. विद्यार्थी भी आत्मविश्वास से लबरेज हैं.

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हैप्पीनेस करिकुलम बढ़ा है. सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों के मां-बाप शिक्षा व्यवस्था पर गर्व करते हैं. लोग परिवर्तनों को देख रहे हैं. देशभक्ति पर बोलते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि देश भक्ति का जज्बा हमें बच्चों में भरना है. देशभक्ति पाठ्यक्र में लक्ष्यों में बच्चों को देशभक्ति भी सिखाना है. उन्हें देश पर गर्व करना सिखाना है. देश की ऑनरशिप बच्चों को सौंपनी है. देश और परिवार के बीच हमें देश को तरजीह देनी चाहिए. अगले साल से यह पाठ्यक्रम सिखाया जाएगा.