हिमाचल में मुआवजा योजना लागू, रेप-एसिड अटैक मामलों में पीड़ित को मिलेगा 3-3 लाख का मुआवजा

0
76
views

हिमाचल प्रदेश में अब दुराचार और एसिड अटैक मामलों में पीड़ित को तीन-तीन लाख रुपये का मुआवजा मिलेगा. इसके अलावा, यौन शोषण मामले में नाबालिग पीड़िता को दो लाख रुपये का मुआवजा दिया जाएगा. राज्य सरकार ने इस संबंध में नोटिफिकेशन (अधिसूचना) जारी किया है.

हिमाचल सरकारी की ओर से जारी नोटिफिकेशन.

नोटिफिकेशन के अनुसार, हिमाचल में एसिड अटैक और दुराचार पीड़िताओं को हिमाचल सरकार तीन-तीन लाख रुपये देगी. भ्रूण हत्या से हानि होने पर 50 हजार रुपये का मुआवजा मिलेगा. गृह विभाग ने हिमाचल प्रदेश अपराध से पीड़ित व्यक्ति प्रतिकर स्कीम 2019 को लागू करने की अधिसूचना जारी की है. आवेदन के बावजूद मुआवजा नहीं मिला तो पीड़ित राज्य विधिक सेवाएं प्राधिकरण के पास अपील कर सकते हैं.

मुआवजा नहीं देने के किसी आदेश के खिलाफ 90 दिन के भीतर प्राधिकरण में अपील करनी होगी. योजना के अनुसार, 11 अक्तूबर, 2019 के बाद मिले आवेदनों पर यह मुआवजा मिलेगा. इसके अलावा, उन मामलों में भी मुआवजा मिलेगा, जिनकी ट्रायल कोर्ट संस्तुति करेगा या फिर जिन मामलों में आवेदन जिला या राज्य विधिक सेवाएं प्राधिकरण को दिए गए हों.

मामले में एफआईआर दर्ज पीड़ित भी इस मुआवजे के हकदार होंगे. पीड़ित को ऐसे मामलों में मुआवजा मिलेगा, जिनमें अपराधी ट्रेस नहीं किया जा सका या फिर केस का ट्रायल नहीं हो पाया हो.

नोटिफिकेशन के अनुसार, एसिड अटैक और दुराचार मामले में 3-3 लाख रुपये, नाबालिग के शारीरिक शोषण पर दो लाख रुपये, मानव तस्करी केस में पुनर्वास के लिए दो लाख, यौन हमला पर 50 हजार रुपये, भ्रूण हत्या से हानि पर 50 हजार, प्रजनन की हानि पर 1.50 लाख रुपये, सीमा पार से गोलीबारी में महिला की मौत 2 लाख रुपये और अश्लील प्रयोजन के लिए बच्चे का उत्पीड़न 50 हजार रुपये मुआवाज मिलेगा.