9 साल में 3 जांच के बाद अब भी बड़ा सवाल, आरुषि को किसने मारा?

10 साल पहले 2008 का वो साल और यूपी के विकसित शहरों में से एक नोएडा एकाएक सुर्खियों में आ गया। दरअसल मामला कुछ खास लोगों से जुड़ा हुआ था। शहर के नामचीन डेंटिस्ट में से एक राजेश तलवार की बेटी आरुषि तलवार की हत्या हो चुकी थी। डीपीएस नोएडा में पढ़ने वाली आरुषि की हत्या सामान्य हत्याकांड नहीं थी।

समय समय पर आरोपियों की शक्ल और सूरत बदल जाया करती थी। यूपी पुलिस ने अपनी जांच में ये माना कि ये आरुषि की हत्या ऑनर किलिंग की हो सकती है और यूपी पुलिस ने आरुषि के पिता राजेश तलवार को ही आरोपी करार दिया। 2008 से 2013 तक तमाम हिचकोलों के साथ ये मामला आगे बढ़ता रहा लेकिन सीबीआइ की विशेष अदालत ने ये माना कि आरुषि के गुनहगार उसके अपने ही मां-बाप थे। ये बात अलग है कि तलवार दंपति कहता रहा है कि कोई अपने ही हाथों से अपनी बेटी का कत्ल कैसे कर सकता है।

इस मामले में आज इलाहाबाद हाईकोर्ट ने अहम फैसला सुनाया। साक्ष्यों के अभाव में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने तलवार दंपति को सबूतों के अभाव में बरी करने का फैसला सुनाया।

Share With:
Rate This Article