ATM के इस्तेमाल पर लगने वाले चार्ज को खत्म करने की तैयारी

0
278
views

देश में ATM का इस्तेमाल करने वाले लोगों को खुशखबरी मिल सकती है, रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने ATM चार्जेस और फीस की समीक्षा के लिए कमेटी का गठन किया है.

  • IBA के CEO वी जी कन्नन को इस कमेटी का प्रमुख बनाया गया है
  • आपको बता दें कि RBI ने दूसरे बैंकों के ATM के इस्तेमाल पर लगने वाली फीस की समीक्षा करने का फैसला किया है.
  • इसीलिए RBI ने पिछले हफ्ते हुई पालिसी समीक्षा के दौरान ATM इंटरचेज फीस स्ट्रक्चर यानी दूसरे बैंकों के ATM के इस्तेमाल पर लगने वाले शुल्क की समीक्षा की बात कही थी
  • RBI ने डिजिटल ट्रांजेक्शन को बढ़ावा देने के लिए RTGS और NEFT के जरिये फंड ट्रांसफर पर से चार्ज हटा लिए हैं.
  • RBI ने बैंकों से भी कहा है कि वे इसका फायदा तुरंत अपने कस्टमर्स को दें.
  • RBI ने पालिसी समीक्षा के दौरान कहा था कि देश में ATM का इस्तेमाल तेजी से बढ़ रहा है.
  • इसीलिए ATM से जुड़ी फीस और चार्ज में बदलाव की मांग तेज हुई है.
  • लिहाजा इस मामले को सुलझाने के लिए RBI ने एक कमेटी बनाने का फैसला किया है.
  • आपको बता दें कि कमेटी अपनी पहली मीटिंग के बाद 2 महीने के भीतर अपने सुझाव सौंपेगी.

किस तरह के लगते हैं ATM पर चार्ज

  • ATM जारी करने वाले बैंक ट्रांजेक्शन (ATM से पैसे निकालना) पर फीस नहीं वसूलता है. लेकिन, दूसरे बैंकों के ATM का इस्तेमाल आप एक तय सीमा से ज्यादा करते हैं तो उसके लिए आपको चार्ज देना पड़ता है.
  • देश का सबसे बड़े सरकारी बैंक SBI का हर महीने 5 ट्रांजेक्शन पर कोई चार्ज नहीं है.
  • ये मेट्रो और नॉन मेट्रो दोनों ही शहरों के लिए है.
  • फ्री लिमिट से बाहर फाइनेंशियल ट्रांजेक्शन करने पर 20 रुपये और GST देना पड़ता है.
  • जबकि नॉन फाइनेंशियल ट्रांजेक्शन के लिए ये चार्ज 8 रुपये के साथ GST है.
  • बैंक एक दूसरे का ATM उपयोग करने के लिए ATM इंटरचेंज फीस लेते हैं.
  • ये फीस 15 रुपये होती है, इससे पहले NPCI ने इंटरचेंज फीस को 15 रुपये से बढ़ाकर 17 रुपये करने का सुझाव दिया था.