जम्मू-कश्मीर में BJP ने PDP के साथ तोड़ा गठबंधन, राज्यपाल शासन लागू करने की मांग

0
172
views

भारतीय जनता पार्टी ने जम्मू-कश्मीर में PDP के साथ गठबंधन को तोड़ दिया है, ये गठबंधन तीन साल चला जिस दौरान कश्मीर में शांति बहाली को कोशिश की गई. लेकिन BJP ने आज पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी यानी (पीडीपी) के साथ गठबंधन तोड़ने का एलान किया. बीजेपी ने समर्थन वापसी की चिट्ठी राज्यपाल को सौंपी और राज्य में राज्यपाल शासन लगाए जाने की मांग की है.  बीजेपी के सरकार से अलग होने के बाद तुरंत ही महबूबा मुफ्ती ने राज्यपाल एन एन वोहरा को अपना इस्तीफा भी सौंप दिया, आपको बता दें कि केंद्र सरकार द्वारा राज्य से सीजफायर खत्म करने के फैसले के बाद दोनों दलों में तनातनी काफी बढ़ गई थी,

कोर ग्रुप की बैठक के बाद BJP ने लिया फैसला

  • मंगलवार को BJP कोर ग्रुप की बैठक में इस बारे में फैसला किया गया
  • बीजेपी चीफ अमित शाह ने जम्मू-कश्मीर के नेताओं के साथ बैठक करने के बाद इस बारे में अंतिम निर्णय लिया,
  • गौरतलब है कि राइजिंग कश्मीर के संपादक शुजात बुखारी की हत्या के बाद राज्य में दोनों दलों के बीच रिश्ते काफी बिगड़ गए थे
  • बीजेपी के महासचिव राम माधव ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में पीडीपी सरकार से समर्थन वापस लेने की घोषणा की
  • उन्होंने कहा, ‘हमने जनता के समर्थन के बाद PDP के साथ सरकार चलाने का निर्णय लिया गया था
  • उन्होंने कहा कि गठबंधन में आगे चलते रहना मुश्किल हो गया है, उन्होंने कहा कि राज्य में आतंकवाद बढ़ गया है. BJP ने राज्य में राज्यपाल शासन की मांग की है
  • माधव ने कहा, ‘पीएम नरेंद्र मोदी और बीजेपी चीफ अमित शाह की सहमति के बाद यह फैसला किया गया, श्रीनगर में एक बड़े पत्रकार की हत्या हो गई।
  • केंद्र ने जम्मू-कश्मीर सरकार को हर तरह से मदद की.

राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंपने के बाद महबूबा मुफ्ती ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि हमने राज्य. में शांति बहाली के लिए गठबंधन किया था

  • PDP प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में सख्ती नीति नहीं चलेगी. उन्होंने कहा कि दोनों पार्टियां अलग-अलग विचारधारा को मानती हैं, लेकिन फिर भी बड़े विजन को साथ लेकर BJP के साथ गठबंधन किया गया था.
  • महबूबा ने कहा कि सरकार के जरिये उन्होंने कश्मीर में अपना एजेंडा लागू करवाने में सफल रही हैं.
  • महबूबा का कहना है कि कश्मीर के लोगों से बातचीत होनी चाहिए, पाकिस्तान से भी बातचीत हो, ये उनकी हमेशा कोशिश रही.
  • 370 को लेकर राज्य में लोग डरे हुए थे, हमने लोगों का डर दूर करने का काम किया.
  • हमारी सरकार ने 11 हजार लोगों के खिलाफ दर्ज केस वापस लिए
  • महबूबा ने कहा कि की मानें तो उनकी सफल नीति की वजह से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पाकिस्तान भी गए.

BJP के फैसले से सभी हैरान

इससे पहले BJP नेता राममाधव ने कहा कि पिछले कुछ दिनों से कश्मीर में स्थिति काफी बिगड़ी है, जिसके कारण हमें ये फैसला लेना पड़ रहा है. उन्होंने कहा कि इस संबंध में प्रधानमंत्री, अमित शाह, राज्य नेतृत्व सभी से बात की है. वहीं, पीडीपी नेता रफी अहमद मीर का गठबंधन टूटने के पीछे कहना है कि बीजेपी के साथ गठबंधन सही चल रहा था. बीजेपी गठबंधन तोड़ेगी इस बारे में हमें जरा भी अंदाजा नहीं था. अचानक बीजेपी के उठाए इस कदम से हम हैरान हैं. यह जरूर है कि पिछले कुछ समय से घाटी और जम्मू में लोगों के बीच गैप बढ़ गया था. इस कारण अशांति का माहौल बना रहा. उन्होंने कहा कि पीडीपी और बीजेपी के नेताओं के बीच सीजफायर, अलगाववाद और पाकिस्तान जैसे मुद्दों पर जरूर अलग-अलग राय हैं, लेकिन यह गठबंधन तोड़ने की वजह नहीं हो सकती. बीजेपी जम्मू कश्मीर के लोगों के साथ राजनीतिक फायदे का खेल कर रही है.