दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग में सीआरपीएफ की पेट्रोलिंग पार्टी पर आतंकियों ने ग्रेनेड से हमला किया है । इस हमले में सीआरपीएफ के 5 जवान घायल हुए हैं । आतंकियों का हमला उस वक्त हुआ है जब ये जवान अपनी रूटीन हाइवे पेट्रोलिंग पर निकले हुए थे । प्राप्त जानकारी के अनुसार अनंतनाग के वनपोह में सीआरपीएफ के इन जवानों पर हमले के बाद सेना और सीआरपीएफ के उच्च अधिकारी यहां पहुंच गए हैं । घटना के बाद पूरे इलाके को घेर कर सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया गया है । इस हमले में घायल हुए सभी सीआरपीएफ जवानों को अस्पताल

नियंत्रण रेखा के उस पार पाक अधिकृत कश्मीर में आतंकी सरगर्मियां बढ़ी हैं। लांचिंग पैड पर नए आतंकी घुसपैठ के लिए तैयार हैं। लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद के करीब तीन सौ फिदायीन तैयार हैं। ये जम्मू-कश्मीर के अलावा देश के प्रमुख स्थानों पर भी हमला करने की फिराक में है। खुफिया एजेंसियों की रिपोर्ट के अनुसार जैश प्रमुख मौलाना मसूद अजहर ने कुछ दिन पहले पीओके के मुजफ्फराबाद में फिदायीनों की परेड भी कराई थी। मसूद अजहर के जम्मू-कश्मीर में कई पूर्व आतंकियों के साथ बेहतर संबंध हैं। कश्मीर में आतंकी हमलों के बाद जम्मू को भी टारगेट पर रखा गया है। कहा

अलगाववादियों की पुलिस भर्ती में न शामिल होने की अपील को दरकिनार करते हुए आज हजारो कश्मीर युवक श्रीनगर में चल रही स्पेशल पुलिस आफिसर पद के लिए हो रही पुलिस भर्ती में शामिल हो रहे हैं । पिछले दिनों अलगाववादी नेता सैय्यद अली शाह गिलानी ने कश्मीरी युवकों से पुलिस भर्ती में शामिल न होने की अपील की थी । कश्मीरी युवकों ने इस अपील को दरकिनार करते हुए बड़ी संख्या में पुलिस भर्ती के लिए आवेदन किया है । पुलिस भर्ती की इस प्रक्रिया में युवकों को शारीरिक दक्षता और मेडिकल टेस्ट के लिये बुलाया गया है जिसके लिए सुबह

पुंछ-रावलाकोट बस से सोमवार को पीओके लौट रहे कुछ नागरिकों ने उस पार से बार-बार होने वाले आतंकी हमलों पर प्रतिक्रिया देते हुए दर्द-ए-दिल बयां किया। उन्होंने कहा कि हमें समझ नहीं आ रहा बेगुनाह लोगों का खून बहा कर यह लोग क्या साबित करना चाहते हैं और कौन सी आजादी लेना चाहते हैं। हिंदुस्तान में कौन गुलाम है? उन्होंने कहा कि गुलाम तो हम हैं जो पीओके में रहते हैं और पाकिस्तान की मर्जी के बिना सांस तक नहीं ले सकते हैं।

कल उड़ी सेक्टर में हुई आतंकी घुसपैठ के दौरान 10 आतंकियों के मारे जाने के बाद से ही पूरे इलाके में सेना द्वारा चलाया जा रहा कांम्बिंग ऑपरेशन अब तक जारी है । इस बारे में जानकारी देते हुए सेना की 15वीं कोर के प्रवक्ता ने बताया कि कल हुई मुठभेड़ के बाद से ही उड़ी सेक्टर में सेना के जवानों द्वारा काम्बिंग ऑपरेशन चलाया जा रहा है । इस ऑपरेशन के तहत घुसपैठ की जगह के आसपास के इलाकों में गहन तलाशी अभियान भी जारी है । प्रवक्ता ने कहा कि काम्बिंग ऑपरेशन के पूरा हो जाने के बाद इससे

उड़ी हमले के बाद भारत के कड़े रुख से पाकिस्तान बेचैन है। अमेरिका गए पाकिस्तान के पीएम नवाज शरीफ ने वहीं से पाकिस्तानी आर्मी चीफ राहील शरीफ से बात की है।भारतीय मीडिया रिपोर्ट को देखते हुए यह कदम उठाया है। मीडिया रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि भारतीय सेना लाइन ऑफ कंट्रोल पार कर ऑपरेशन चलाना चाहती है। इसके बाद से पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइन्स ने उत्तरी इलाकों में उड़ाने बंद कर दी थीं। उधर पाक मीडिया के रिपोर्ट के मुताबिक आज नवाज शरीफ यूनाइटेड असेंबली को संबोधित करेंगे। माना जा रहा है कि शरीफ यूण्न असेंबली में कश्मीर का मसला

परमवीर चक्र विजेता कैप्टन बाना सिंह उड़ी हमले को लेकर काफी गुस्से में हैं। उनका कहना है कि यदि ऐसे ही चलता रहा तो देश नहीं बचेगा। अब बात नरमी से नहीं बनेगी। सरकार के ढीले रवैये के कारण इस प्रकार की घटनाएं हो रहीं हैं। सरकार को अपनी दोहरी नीति बदलनी होगी। पाकिस्तान सीमा से तीन किलोमीटर दूर अंतरराष्ट्रीय सीमा पर कत्याल गांव के रहने वाले बाना सिंह कहते हैं कि आतंकियों ने फिदायीन हमले का प्लान पहले से बना रखा होगा। एक आतंकी ही कई जवानों को मार सकता था क्योंकि वह पूरी तरह लैस होकर मरने की नीयत

उड़ी हमले के बाद चलाया जा रहा सर्च ऑपरेशन पूरा हो गया है । सर्च ऑपरेशन के बाद प्रेस कांफ्रेस करते हुए सेना के डीजीएमओ रणबीर सिंह ने कहा है कि भारतीय सेना के पास हर तरह के आतंकी हमले से निपटने की क्षमता है। भारतीय सेना इन हमलों का मुंहतोड़ जवाब वक्त आने पर अब अपने तरीके से देगी । 2016 में सीमापार से 17 बार घुसपैठ की कोशिश हुई जिसे भारतीय सेना ने नाकाम कर दिया । डीजीएमओ रणबीर सिंह ने बताया कि हमले के बाद से ही उड़ी में सेना का सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा था जो कि

उड़ी में फिदायीन हमला करने वाले आतंकियों को मुजफ्फराबाद के सवई नाला कैंप में पाकिस्तानी सेना से प्रशिक्षण मिला था। सेना को इस आशय के इनपुट मिले हैं। सुरक्षा एजेंसियों ने इस बाबत रक्षा और गृह मंत्रालय को रिपोर्ट भेजी है। सुरक्षा एजेंसियों के पास पीओके में चल रहे 42 आतंकी प्रशिक्षण कैंपों की पुख्ता जानकारी और नक्शा है। इनमें से 18 कैंप अधिक सक्रिय हैं। कश्मीर घाटी से जुड़े पीओके के इलाके में आतंकियों के 14 लांचिंग पैड इन दिनों सक्रिय हैं। इनसे आतंकियों की घुसपैठ कराई जाती है।

उड़ी हमले के बाद आतंकियों की साजिश और हमले से जुड़े पहलूओं की जांच करने के लिए राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के अधिकारी उड़ी पहुंच गए हैं । सूत्रों के मुताबिक एनआईए की टीम आतंकी हमले से जुड़े तथ्यों और मौके से मिले सामानों की पड़ताल के लिए बीती शाम उड़ी पहुंची है । उड़ी हमले के बाद एनआईए ने केस दर्ज करते हुए मामले की गहन जांच शुरू कर दी है । सूत्रों के हवाले से प्राप्त जानकारी के मुताबिक एनआईए के अधिकारियों ने हमले को आये आतंकियों से बरामद हुए सामान, मौके पर मौजूद ब्लड सैंपल, फिंगर प्रिंट और