सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल के श्रीनगर से लौट जाने के बाद भी घाटी के कुछ इलाकों में कर्फ्यू और पाबंदियां जारी हैं। कई इलाकों में प्रदर्शनकारियों और सुरक्षा बलों में हुई हिंसक झड़पों में 50 से ज्यादा लोग और सुरक्षा बल घायल हुए हैं। कुलगाम जिले के जंगलपोरा इलाके में सुरक्षा बलों की ओर से राष्ट्र विरोधी रैली को नाकाम बनाया गया। इस दौरान हुई हिंसक झड़प में 17 से ज्यादा लोग और सुरक्षा बल के जवान घायल हो गए।

घाटी में शांति बहाली की कवायद के चलते दो दिनी दौरे पर रियासत आए सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल के लौटने के कुछ घंटे बाद ही पाकिस्तान ने एलओसी (लाइन आफ कंट्रोल) से सटी भारतीय सेना की चौकियों को निशाना बनाकर फायरिंग की। सोमवार आधी रात बाद पहले पाकिस्तानी सेना की ओर से शाहपुर सेक्टर में पहले छोटे हथियारों से फायरिंग की और कुछ देर बाद ही मोर्टार दागने भी शुरू कर दिए। भारतीय सेना की ओर से पाकिस्तानी कार्रवाई का मुंहतोड़ जवाब दिया गया। मंगलवार सुबह तक दोनों ओर से रुक-रुक फायरिंग हो रही थी। सैन्य सूत्रों के मुताबिक पाकिस्तानी गोलाबारी में किसी तरह

अपने बयानों को लेकर चर्चा में रहने वाले भाजपा के राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने इस बार जम्मू-कश्मीर में अपनी पार्टी की ही सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने ने एक टीवी इंटरव्यू में रियासत में भाजपा-पीडीपी गठबंधन पर निशाना साधते हुए कहा कि ये गठबंधन एक प्रयोग था जिसका फेल होना तय था। ये पहले दिन ही डूबा हुआ था। मौजूदा समय में गठबंधन सरकार का अंत आ चुका है। उन्होंने महबूबा मुफ्ती के इस्तीफे के साथ जम्मू-कश्मीर में राज्यपाल शासन लागू करने की मांग की।

जम्मू में शुक्रवार को दिनभर सड़कों पर मजदूरों के हक की आवाज गूंजती रही। सीटू और इंप्लाइज ज्वाइंट एक्शन कमेटी (आर) व जेएंडके को-आर्डिनेशन कमेटी आफ ट्रेड यूनियन (जेकेसीसीटी) के आह्वान पर विभिन्न विभागों के कर्मचारियों ने सड़कों पर उतरकर विरोध प्रदर्शित किया। मेडिकल रिप्रजेंटेटिव ने भी प्रदर्शन कर आवाज बुलंद की। उधर, राष्ट्रीय बैंकों और सार्वजनिक क्षेत्रों की बीमा कंपनी में देशव्यापी हड़ताल का मिला जुला-असर रहा। न्यूनतम 18 हजार हो मुलाजिमों का वेतन न्यूनतम वेतन 18 हजार रुपये करने, क्लरिकल स्टाफ की वेतन विसंगतियों को दूर करने व अन्य लंबित मांगों को पूरा करने की मांग को लेकर इंप्लाइज ज्वाइन एक्शन

आतंकवाद आखिर आतंकवाद होता है। इससे आज तक किसी का भला नहीं हुआ है। संसार में हमेशा आतंकवाद ने तबाही मचाई है। इसलिए सरकार आतंकवाद से कभी समझौता नहीं करेगी। आतंकवादियों और उनके आकाओं के साथ सख्ती से निपटा जाएगा। ये बातें उप मुख्यमंत्री डॉ. निर्मल सिंह ने नगर में जनता दरबार के दौरान कही। अपने संबोधन में उन्होंने पाकिस्तान पर आरोप लगाते हुए कहा कि हमारा पडोसी और उसके एजेंट्स कश्मीर के हालात खराब करने का प्रयास कर रहे हैं। बच्चों और युवाओं को गुमराह कर पत्थरबाजी के रास्ते पर धकेला जा रहा है।

घाटी में पुलिस भर्ती में युवाओं की दिलचस्पी से बौखलाए हिजबुल आतंकी संगठन ने धमकी भरा तीसरा वीडियो जारी किया है। वीडियो में दिख रहे आतंकी पुलिस और अन्य सरकारी विभागों में तैनात मुलाजिमों को नौकरी से तौबा करने की धमकी दे रहे हैं। आतंकियों ने धमकाते हुए कहा है कि जो लोग कश्मीरी अवाम के खिलाफ जाकर भारत सरकार से हाथ मिला बैठे हैं उन्हें गंभीर परिणाम भुगतने होंगे। मुलाजिमों के परिजनों से वह साफ कहना चाहते हैं कि या तो वे मुलाजिमों को नौकरी छोड़ने के लिए तैयार करें या फिर परिमणाम भुगतने को तैयार रहें।

कट्टरपंथी हुर्रियत नेता सलीम गिलानी के बेटे को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। सलीम ने बताया कि वीरवार को रैनावारी थाने से घर पर फोन आया था। उस वक्त वह घर पर ही मौजूद थे। फोन पर पूछा गया कि आपके बेटे कहां हैं। यह बताने पर बड़ा बेटा घर से बाहर है और छोटा घर पर है। इस पर छोटे बेटे सैयद फरहान को थाने भेजने को कहा गया। उन्होंने उसे भेज दिया, लेकिन उसके बाद से वह नहीं लौटा है। पूछने पर थाने से केवल इतना बताया गया कि ऊपर से गिरफ्तारी का आदेश था।

कश्मीर में हिंसा रुकने का नाम नहीं ले रही है। थोड़ी सी शांति के बाद दोबारा से घाटी के कई हिस्सों में कर्फ्यू है। इस बीच आवश्यक वस्तुओं की कमी देखते हुए सरकार ने श्रीनगर में बैठक बुलाई और टैंकर चालकों को सुरक्षा का भरोसा दिलाया। फलस्वरूप सात दिन के बाद घाटी में आज पेट्रोल, डीजल और केरोसिन के टैंकर भेजेंगे। फिलहाल नुकसान के मुआवजे पर चर्चा अभी बाकी है। श्रीनगर में सरकार के प्रतिनिधियों और पुलिस के आला अफसरों की बैठक हुई, जिसमें जम्मू के टैंकर के शिष्टमंडल मिले और दो बार हुई बैठक में यह नतीजा सामने आया कि कड़ी

कश्मीर यात्रा से पहले केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने आज एक सर्वदलीय बैठक की। बैठक में सभी दलों के प्रतिनिधि मौजूद रहे। बैठक खत्म होने के बाद गृह मंत्री ने कहा कि सभी दलों के प्रतिनिधियों ने अपनी राय दी है। उनके सुझाव के आधार पर सरकार आगे की कार्रवाई तय करेगी। राजनाथ ने ये भी कहा कि जब टीम कश्मीर से वापस लौटेगी तो एक बार फिर सभी दलों के प्रतिनिधियों की बैठक होगी। बता दें कि रविवार (4 सितंबर) को गृह मंत्री सर्वदलीय प्रतिनिधि मंडल के साथ कश्मीर रवाना होंगे। वहीं बैठक के बाद कांग्रेस नेता गुलाम नबी

कश्मीर घाटी में जहां एक तरफ युवा कानून को अपने हाथ में लेकर सुरक्षा बलों पर पत्थर बरसा रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ एक दंपति ऐसा भी है जो घाटी छोड़ बुद्धल तहसील के पिछड़े गांव समोट में बच्चों को मुफ्त तालीम दे रहा है। जरूरतमंद बच्चे यहां न सिर्फ पढ़ते हैं, बल्कि उनमें देशभक्ति का जज्बा भी कूट-कूट कर भरा जाता है। महिला जुलमाइरा के सिर से मां और बाप का साया बचपन में ही उठ गया था। परवरिश से लेकर पढ़ाई और नौकरी तक का सफर संघर्षपूर्ण रहा। अब उसकी ख्वाहिश जरूरतमंद बच्चों को शिक्षा देते रहने की है। कश्मीर