पाकिस्तान सेना ने जम्मू और कश्मीर में नियंत्रण रेखा पर पुंछ के बालाकोट और राजौरी के मंजाकोट में युद्ध विराम का फिर उल्लंघन किया. इससे पहले पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर(POK) में नियंत्रण रेखा पर हुई संघर्ष विराम उल्लंघन की घटना में भारतीय सैनिकों ने करारा जवाब दिया. भारतीय सेना ने उनके वाहन पर गोलीबारी की. इसके कारण उनके चार जवान नदी में डूब गए. पाकिस्तानी सेना एलओसी पर बीजी सेक्टर में 0730 घंटों से छोटे हथियार, आटोमैटिक्स और मोर्टारर्स की अकारण और अंधाधुंध फायरिंग कर रही है. भारतीय सेना भी इसका जोरदार और प्रभावी ढंग से जवाब दे रही है. सूत्रों का

श्रीनगर जम्मू-श्रीनगर हाइवे पर रामसू और बनिहाल के बीच अमरनाथ तीर्थयात्रियों से भरी बस खाई में गिरी गई. जानकारी के मुताबिक, हादसे में करीब 16 लोगों की मौत की सूचना है जब‌कि 19 लोग घायल हुए हैं, जबकि 8 युवक गंभीर रूप से घायल हुए हैं. हादसे में मरने वालों की संख्या की अभी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है. घटना की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची टीमों ने राहत और बचाव कार्य शुरू कर दिया है. बताया जा रहा है कि बस का नंबर जेके02-0594 था. बस पहलगाम की बताई जा रही है. घायलों को बनिहाल के सब डिविजनल अस्पताल में

जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा बलों को बड़ी कामयाबी मिली है। यहां त्राल में चल रहे मुठभेड़ के दौरान सुरक्षाबलों के जवानों ने 3 आतंकियों को ढेर कर दिया। मुठभेड़ आज सुबह से ही सतोरा इलाके में चल रहा था। इससे कुछ दिन पहले भी सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को ढेर कर दिया था। एक आंकड़े के मुताबिक सेना और सुरक्षाबलों के जवानों ने सिर्फ इस साल अब तक 105 आतंकियों को मार गिराया है। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि आतंकवादियों के शव अभी बरामद नहीं हुए हैं और गोलीबारी अभी जारी है। उन्होंने बताया कि यहां से 36 किलोमीटर दूर त्राल के

मुंबई शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत ने अमरनाथ यात्रा के दौरान हुए आतंकी हमले पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है. संजय राउत ने कहा कि कश्मीर की समस्या को एक दिन में सुलझाया जा सकता है. लेकिन ऐसा तब होगा जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक दिन के लिए हिटलर बनेंगे. उन्होंने अपने बयान में कहा कि पीएम मोदी अगर कुछ नहीं कर सके तो इसका हल कोई नहीं कर पाएगा. शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि अगर मोदी हिटलर बनते हैं तो हम सरकार के साथ रहेंगे. खबरों के मुताबिक, राउत ने कहा उन्होंने ये भी कहा कि हम मोदी जी में बाला

श्रीनगर सुरक्षाबलों ने आतंकियों के खिलाफ अभियान को जारी रखते हुए मंगलवार देर रात हिज्ब आतंकी दाऊद और जावेद शेख को उनके एक पाकिस्तानी साथी समेत बडगाम के रडबुग में घेर लिया. सुरक्षाबलों के साथ हुई मुठभेड़ में 3 आतंकी ढ़ेर हो गए हैं, फिलहाल सेना का सर्च ऑपरेशन जारी है. दोनों तरफ से रुक-रुक कर गोलीबारी हो रही है. एहतियात के तौर पर प्रशासन ने बडगाम में इंटरनेट सेवाओं को भी बंद कर दिया। संबंधित अधिकारियों ने हालांकि आतंकियों की संख्या की पुष्टि नहीं की है. बताया जा रहा है कि शाम साढ़े सात बजे बडगाम जिले में मागाम के पास

जम्मू जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में अमरनाथ यात्रियों की बस पर हुए आतंकी हमले में 7 यात्रियों की मौत हो गई है और 19 से ज्यादा घायल हुए हैं. यह मंजर और ज्यादा भयावह होता अगर बस का ड्राइवर सलीम हिम्मत नहीं दिखाता. ड्राइवर सलीम ने बताया कि उन्होंने बस की तरफ गोलियां चलने की आवजा सुनी, जिसके बाद उन्होंने बस को सुरक्षित जगह ले जाने का फैसला किया और इस बात का खास ध्यान दिया कि कम से कम गोलियां बस तक पहुंच पाए. सलीम ने कहा, "भगवान ने मुझे आगे बढ़ने की शक्ति दी, जिस कारण मैं सुरक्षित स्थान तक पहुंच पाया." गुजरात

अनंतनाग में अमरनाथ यात्रियों पर हमले के बाद सीएम महबूबा मुफ्ती ने मंगलवार को अस्पताल में घायलों से मुलाकात की. उन्होंने हाथ जोड़कर हमले पर अफसोस जताया। बाद में कहा- ''सभी कश्मीरियों के सिर शर्म से झुक गए.'' इस बीच, कश्मीर के IG मुनीर खान ने कहा कि हमले के पीछे लश्कर-ए-तैयबा का हाथ है. मास्टर माइंड लश्कर का पाकिस्तानी टेररिस्ट इस्माइल है. केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने भी कहा, "हमले के दोषियों को बख्शने का सवाल ही नहीं है। हमारा पड़ोसी आतंकवाद को प्रमोट कर रहा है." बता दें कि अनंतनाग में सोमवार रात हुए इस हमले में 5 महिलाओं

कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के दावों को धता बताते हुए आतंकियों ने सोमवार रात करीब साढ़े आठ बजे जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग जिले के बटेंगू में अमरनाथ तीर्थयात्रियों पर हमला कर गुजरात के सात यात्रियों की जान ले ली। बाइक से आए आतंकी गुजरात के वलसाड़ से आए तीर्थयात्रियों की बस पर अंधाधुंध गोलियां बरसा कर भाग निकले। हमले में 32 लोग घायल हुए हैं, जिनमें पांच पुलिसकर्मी हैं। अमरनाथ यात्रियों पर इससे पहले 1 अगस्त 2000 को बड़ा हमला हुआ था, जिसमें 30 लोग मारे गए थे। एक आतंकी की पहचान हमले की शिकार बस में सभी श्रद्धालु गुजरात के बताए गए

श्रीनगर जम्मू-कश्मीर राज्य मानवाधिकार आयोग ने फारुख अहमद डार को 10 लाख रुपए देने की घोषणा की है. बता दें डार को आर्मी ने जीप के आगे बांध मानवढाल के तौर पर इस्तेमाल किया था और सड़कों पर घुमाया था. डार को कथित मानव ढाल के तौर पर इस्तेमाल किए जाने को लेकर खासा विवाद हो गया था उस वक्त सेना व सरकार ने उस मेजर नितिन लितुल गोगोई का समर्थन और सम्‍मान किया था, जिसने कश्‍मीरी युवक को मानव ढाल बनाया था. फारुक अहमद डार को जीप के बोनट से बांधकर पत्थरबाजों को नियंत्रित करने की घटना 9 अप्रैल, 2017 की है.

लद्दाख सिक्किम सीमा पर जारी तनातनी के बीच चीन अब सरकारी मीडिया का सहारा लेकर लद्दाख में तिब्‍बत की निर्वासित सरकार द्वारा झंडा फहराए जाने का विरोध करने में जुटा हुआ है. ग्‍लोबल टाइम्‍स में इस संबंध में एक लेख छपा है, जिसमें यह भी आरोप लगाया गया है कि तिब्‍बती अलगाववादियों को ऐसा करने के लिए भारतीय अधिकारियों ने उकसाया है, क्‍योंकि वे चीन पर दबाव बनाना चाहते हैं. गौरतलब है कि झंडा बैंगांग झील के पास फहराया गया, जिसे भारत में पैंगांग झील कहा जाता है. यह चीन-भारत की सीमा रेखा के बेहद करीब है. वैसे लेख में भले ही भारतीय अधिकारियों