#CBIvsCBI : पिंजरे का तोता फिर से पिंजरे में-कपिल सिब्बल

0
235
views

आलोक वर्मा को CBI के निदेशक पद से हटाए जाने पर कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने तंज कसा है. उन्होंने वर्मा को हटाए जाने की आलोचना करते हुए लिखा कि पिंजरे का तोता फिर से पिंजरे में कैद हो गया है.

  • CBI के लिए ‘पिंजरे का तोता’ शब्द का इस्तेमाल UPA के शासनकाल में सुप्रीम कोर्ट की ओर से किया गया था.
  • इसके बाद कांग्रेस और BJP के तमाम नेताओं ने एक-दूसरी की सरकारों में CBI के राजनीतिक इस्तेमाल का आरोप लगाते आए हैं.
  • कपिल सिब्बल ने आलोक वर्मा के निदेशक पद से हटाने पर ट्वीट करते हुए लिखा, ‘आलोक वर्मा को हटाकर कमेटी ने पक्का कर दिया है कि पिंजरे का तोता अपनी आवाज से सत्ता के गलियारों का सुर बिगाड़ सकता था.
  • इसी वजह से पिंजरे के तोते को फिर से पिंडरे में भेजा गया.
  • गुरुवार को ही प्रधानमंत्री की अध्यक्षता वाली कमेटी ने वर्मा को CBI के निदेशक पद से हटाकर फायर सर्विसेज एंड होम गार्ड विभाग का महानिदेशक नियुक्त किया है.
  • कमेटी के इस फैसले पर उसी समिति के सदस्य और कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने सवाल उठाए हैं. हांलाकि इसके बाद भी कमेटी ने 2-1 से वर्मा को हटाने के फैसले पर अपनी मुहर लगा दी.
  • इससे पहले मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने आलोक वर्मा को CBI निदेशक के पद पर बहाल कर दिया था.
  • आलोक वर्मा को CVC की सिफारिश पर सरकार ने करीब दो महीने पहले जबरन छुट्टी पर भेज दिया था.