आज महाशिवरात्रि का महापर्व, जानें कैसे करें व्रत-पूजन

0
450
views

भगवान शिव को समर्पित महाशिवरात्रि का महापर्व फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी मंगलवार को श्रद्धा और विश्वास के साथ मनाया जा रहा है. भगवान शिव की आराधना के लिए इस पर्व का विशेष महत्व है. माना जाता है कि इस रात में विधिवत साधना करने से भोलेनाथ की विशेष कृपा प्राप्त की जा सकती है.

इस दिन भक्‍तजन अपने प्रिय भोले को प्रसन्‍न करने के लिए व्रत रखते हैं. शिवलिंग पर जल, दूध और धतूरा आदि चढ़ाते हैं. इस पर्व को शिव और देवी पार्वती के शुभ-विवाह के अवसर पर मनाया जाता है.

महाशिवरात्रि का शुभ मुहूर्त

महाशिवरात्रि का शुभ मुहूर्त 13 फरवरी यानी आज की रात से शुरू होकर 14 फरवरी तक रहेगा. इस दिन भगवान शिव का पूजन सुबह 7.30 से लेकर दोपहर 3.20 तक किया जाएगा. रात्रि के समय भगवान शिव का पूजन एक से चार बार किया जाएगा, यह बात भक्तों पर निर्भर करती है. पारपंरिक रूप से पूजा करने के उपरांत अगली सुबह स्नान के बाद व्रत खत्म हो जाएगा.

कैसे करें महाशिवरात्रि पूजन

व्रत वाले दिन भक्त सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि के बाद पास के किसी शिव मंदिर में जाकर भगवान शिव की मूर्ति की पूजा करते हैं ताकि भगवान शिव की कृपा सदैव उनपर बनी रहे. भगवान के दर्शन करने की यह प्रक्रिया दोपहर तक चलती है. उसके बाद मंदिर को बंद कर दिया जाता है और शाम को एक बार फिर दर्शन के लिए मंदिर के कपाट खोले जाते हैं. इस मौके पर मंदिरों में भगवान शिव की मूर्तियों का अभिषेक किया जाता है. यह अभिषेक दूध, गुलाब जल, चंदन, दही, शहद, चीनी और पानी जैसी विभिन्न सामग्रियों से किया जाता है.

शिवरात्रि पूजा में ये 7 वस्तुएं जरूर लें

  • शिव लिंग का पानी, दूध और शहद के साथ अभिषेक.
  • बेर या बेल के पत्ते जो आत्मा की शुद्धि का प्रतिनिधित्व करते हैं
  • सिंदूर का पेस्ट स्नान के बाद शिव लिंग को लगाया जाता है. यह पुण्य का प्रतिनिधित्व करता है
  • फल, जो दीर्घायु और इच्छाओं की संतुष्टि को दर्शाते हैं.
  • जलती धूप, धन, उपज (अनाज).
  • दीपक जो ज्ञान की प्राप्ति के लिए अनुकूल है.
  • और पान के पत्ते जो सांसारिक सुखों के साथ संतोष अंकन करते हैं