CM जयराम ठाकुर ने रक्षा मंत्री से की हिमाचल रेजिमेंट की मांग

0
318
views

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने सोमवार को दिल्ली में रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण से मुलाकात की. इस दौरान उन्होंने रक्षामंत्री से हिमाचल प्रदेश के सैनिकों की शूरवीर सेवाओं को पहचान दिलाने के लिए हिमाचल रेजिमेंट की मांग की. बता दें कि 1200 से अधिक जवानों ने मातृभूमि के लिए अपने प्राणों को न्योछावर किया है और हिमाचल के वीर जवानों को चार परमवीर चक्र समेत वीरता पुरस्कार प्रदान किए गए हैं.

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के युवाओं के लिए सशस्त्र बलों में करियर का सबसे पसंदीदा बड़ा विकल्प है. जयराम ठाकुर ने बताया कि उन्होंने रक्षा मंत्री से राज्य के लिए भर्ती कोटे में बढ़ोतरी करने का आग्रह किया है.

मुख्यमंत्री ने बताया कि उन्होंने रक्षा मंत्री से एयरफोर्स के लिए कांगड़ा हवाई अड्डे को विकसित करने का भी आग्रह किया. उन्होंने कहा कि हवाई अड्डे के विस्तार से इसका इस्तेमाल लड़ाकू विमानों और भारी विमानों को उतारकर रक्षा उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है. इसकी सीमा से सुरक्षित दूरी और रणनीतिक स्थान होने के कारण पठानकोट एयरपोर्ट के लिए सुरक्षा की दूसरी पंक्ति के रूप में एक विकल्प हो सकता है.

जयराम ठाकुर ने बताया कि कांगड़ा हवाई अड्डे के लिए 500 एकड़ अतिरिक्त भूमि की अधिग्रहण की आवश्यकता होगी. जिसकी लागत को रक्षा मंत्रालय द्वारा वहन किया जाएगा. मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने रक्षामंत्री से अनुरोध किया कि इस एयरपोर्ट के रक्षा सम्पति के रूप में विकसित किए जाने के बाद भी नागरिक उड़ानों के संचालन को जारी रखा जाए.

जयराम ठाकुर ने रक्षा उपकरणों को धर्मशाला के युद्ध स्मारक में भेजने के लिए मंत्रालय के समर्थन के लिए भी अनुरोध किया. यह स्मारक बहादुर शहीदों के लिए श्रद्धांजलि के रूप में निर्मित किया गया है. उन्होंने रक्षामंत्री से मनाली-लेह रेलवे लाइन के मामले को आगे बढ़ाने के लिए भी मांग की, जो राष्ट्र के लिए सामरिक तथा रक्षा की दृष्टि से महत्वपूर्ण है.

मुख्यमंत्री ने बताया कि रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने उनकी मांगों को सुना और हर संभव मदद का आश्वासन दिया है.