कोरोना : तारा देवी और जाखू मंदिर में श्रद्धालुओं के आने पर रोक, आरती का होगा LIVE प्रसारण

0
105
views

शिमला. कोरोना वायरस (Corona Virus) के बढ़ते खौफ के मद्देनजर शिमला (Shimla) जिला प्रशासन ने जिला भर के सभी मंदिरों को आगामी नवरात्रों तक बंद रखने का फैसला लिया है. ये फैसला मंदिरों (Temple) में बढ़ने वाली भीड़ पर पूर्ण रोक लगाने के मकसद से लिया गया है.

  • इसके अलावा, प्रशासन ने आम जनता के लिए शिमला की कंडा जेल (Kanda Jail) में बंद कैदियों की ओर से तैयार किए जा रहे मास्क भी आम जनता के लिए बेहद सस्ते दामों में उपलब्ध करवाना शुरू कर दिया है.
  • प्रशासन ने सैलानियों के आगमन को देखते हुए होटल और ढाबा मालिकों को भी ख़ास एडवाइजरी जारी करते हुए शहर की सभी सार्वजनिक स्थलों पर सेनेटाईजर स्प्रे करने के भी स्थानीय निकायों और पर्यटन निगम को निर्देश जारी किए हैं.
  • कोरोना वायरस ये नाम आज सभी को डरा रहा है, हालांकि, देश के पहाडी राज्य हिमाचल प्रदेश में कोरोना वायरस का एक भी पॉजिटिव मामला सामने नहीं आया है
  • राज्य सरकार और प्रशासन अपने अपने स्तर पर गंभीरता दिखा रहे हैं.

इन मंदिरों में एंट्री पर रोक

  • विश्विख्यात पर्यटन नगरी शिमला में भी प्रशासन ने सभी मंदिरों को तत्काल रूप से बंद करने का फैसला लिया है.
  • प्रशासन का कहना है की नवरात्रों के दौरान शिमला के काली बाडी मंदिर और प्राचीन जाखू मंदिर समेत सभी मंदिरों में श्रधालुओं की भीड़ कई गुना बढ़ जाती है
  • जिससे संक्रमण का खतरा भी रहता है. ऐसे में अब जिला भर के सभी मंदिरों को तत्काल रूप से बंद करने के आदेश दे दिए गए हैं.
  • श्रद्धालुओं के दर्शनार्थ वेब कास्टिंग के माध्यम से जाखू मंदिर, संकटमोचन मंदिर, तारा देवी मंदिर व काली बाड़ी मंदिर की सुबह शाम की आरती गुरुवार 19 मार्च, से लाइव प्रसारित की जाएगी, जबकि नवरात्रों के दौरान अष्टमी व नवमी के दिन मंदिरों के तहत आरती व अन्य कार्यक्रमों को पूरे दिन लाईव दिखाया जाएगा.

होटल और ढाबा मालिकों के लिए एडवाइजरी
भारत सरकार की आदेश को ध्यान में रखते हुए जिला प्रशासन ने होटल और ढाबा मालिकों के लिए भी अलग से एडवाइजरी जारी की है, जिसमें ढाबों और रेस्तरा में सेनेटाईजर का निरंतर छिडकाव करने के आदेश दी गए हैं. इसके साथ ही पब्लिक प्लेसिस और एटीएम में भी सम्बंधित विभागों और बैंकों को भी सेनेटाईजर स्प्रे करने को कहा गया है