दिल्ली: मरकज से निकाले गए 2361 जमाती, तीन दिन तक चला ऑपरेशन

0
289
views

दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात के मरकज को पूरी तरह से खाली करा लिया गया है. तीन दिन तक चले ऑपरेशन के बाद मरकज से 2361 लोगों को बाहर निकाला गया है. इसमें से 617 लोगों के अंदर कोरोना के सिम्टम्स मिले हैं, जिन्हें हॉस्पिटल में शिफ्ट किया गया है. इसके अलावा बाकी बचे लोगों को क्वारनटीन सेंटर ले जाया गया है.

दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने बताया कि मैं सभी चिकित्साकर्मियों, डीटीसी कार्यकर्ताओं और पुलिसकर्मियों को धन्यवाद देना चाहता हूं, जिन्होंने अपनी जान जोखिम में डालकर भी लगातार काम किया. साइबर सेल इन 2361 लोगों के संपर्क में आए लोगों की शिनाख्त कर रहा है.

जमात के मरकज मामले की जांच दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच कर रही है. सूत्रों की माने तो मौलाना साद फोन का इस्तेमाल नहीं करता है. उसके दो घर हैं. एक निजामुद्दीन में और एक जाकिर नगर में. फिलहाल वो कहा है? ये अभी पुलिस को भी नहीं पता, लेकिन सूत्रों का मानना है कि उसने खुद को आइसोलेशन में रखा है.

पुलिस की ओर से दर्ज की गई एफआईआर में मौलाना साद, डॉक्टर जीशान, मुफ्ती शहजाद, मोहम्मद अशरफ, मुर्सलीन सैफ़ी, यूनिस मोहम्मद, सलमान के नाम हैं. मरकज से शुरू हुए सिलसिले ने कोरोना के खिलाफ बड़े सर्च ऑपरेशन को शुरू कर दिया है. ये तलाश उन जमातियों की है, जो दिल्ली के मरकज से होते हुए देश भर में फैल गए.