DRDO का रुस्तम-2 ड्रोन क्रैश, ट्रायल के दौरान हुआ हादसा

0
103
views

रक्षा अनुसंधान व विकास संगठन (DEDO) का एक अनमैन्ड एरियल व्हीकल (UAV) आज कर्नाटक में क्रैश हो गया. प्राप्त जानकारी के मुताबिक, ये हेवी ड्यूटी ड्रोन कर्नाटक के चित्रदुर्ग जिले के जोडीचिकेनहल्ली में क्रैश हुआ है. सुबह 6 बजे क्रैश हुए इस हेवी ड्रोन का नाम रुस्तम-2 बताया जा रहा है.

  • DRDO ने रुस्तम-2 का पिछले साल कर्नाटक के चलाकेरे टेस्ट फैसिलिटी से कामयाब परीक्षण किया था.
  • इसका आज ट्रायल किया जा रहा था. जिसमें ये हादसे का शिकार हो गया.
  • चित्रदुर्ग के SP के मुताबिक, चूंकि ये अनमैन्ड एरियल व्हीकल था. इसलिए हादसे में कोई हताहत नहीं हुआ.
  • चित्रदुर्ग के एसपी के मुताबिक, ‘रुस्तम-2 का आज टेस्ट ट्रायल किया जा रहा था.
  • इसी दौरान ये क्रैश होकर खेत में गिर गया. लोगों की भीड़ को देखते हुए पुलिस भी पहुंच गई.
  • DRSO के अधिकारी भी मौके पर पहुंचकर क्रैश के कारणों का पता लगाने में जुट गए हैं.

क्या है अनमैन्ड एरियल व्हीकल?

  • दरअसल, Drone के कई अलग-अलग अर्थ हैं. यह अंग्रेजी शब्द ड्रान से लिया गया है
  • जिसका अर्थ है ‘नर मधुमक्खी’होता है. ऐसा इसलिए क्योंकि उड़ते वक्त छोटा ड्रोन कमोबेश इसी तरह दिखता है.
  • इसके लिए एक अन्य शब्द UAV भी प्रयोग किया जाता है. इसका फुल फॉर्म होता है Unmanned Aerial Vehicle.
  • जैसा कि हम सबको पता है कि ड्रोन में सामान्यत: 4 रोटर यानी कि पंखे लगे होते हैं.
  • हालांकि कई ड्रोन ऐसे भी हैं जिनमें कई पंखे लगे होते हैं और कई ऐसे भी हैं जिनमें एक ही रोटर लगता है वहीं फिक्स्ड विंग ड्रोन में एक भी रोटर नहीं लगा होता है.
  • ड्रोन 4 रोटर के सहारे ही उड़ता है. रोटर में लगी पत्तियां हवा को नीचे ढकेलती हैं
  • जिसकी वजह से ड्रोन ऊपर उठ जाता है और उड़ने लगता है.
  • रोटर लगी चार पत्तियों में से 2 क्लॉकवाइज़ घूमती हैं और दो एंटी-क्लॉकवाइज़ जिससे हवा के दबाव को नियंत्रित किया जा सके.