इन 10 सरकारी कंपनियों के बकाए ने BSNL को डुबाया !

0
682
views

भारत संचार निगम लिमिटेड की मौजूदा हालत कोई एक-दो दिन की देन नहीं है. बीएसएनएल की सेवाएं लेने वाली दूसरी सरकारी कंपनियों  ने ही उसे धीरे-धीरे इस हाल में पहुंचाया है. आज भी उन सरकारी कंपनियों पर BSNLकी हजारों करोड़ रुपये की लेनदारी है. अफसोस की बात तो यह है कि BSNL को यह हजारों करोड़ रुपये उस वक्त भी नहीं मिले जब उसके पास अपने कर्मचारियों को वेतन देने के लिए भी पैसा नहीं था. अब जब BSNL और MTNL के करीब 90 हजार कर्मचारी वीआरएस (VRS) लेकर जा चुके हैं, तब भी BSNL को उम्मीद है कि उसे लेनदारी के हजारों करोड़ रुपये मिल जाएं तो कुछ राहत मिले.

  • BSNL की सबसे बड़ी देनदार है गेल (GAIL)- 18 साल से किसी कंपनी को उसका ग्राहक सेवाओं के बदले में उसका भुगतान न करे या फिर आधा-अधूरा भुगतान करे तो धीरे-धीरे वो रकम कितनी हो जाएगी.
  • शायद हमारे-आपके सोचने से कहीं ज्यादा. BSNL के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ.
  • लोकसभा में दूरसंचार मंत्रालय की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार गेल इंडिया लिमिटेड BSNL से आई-2 नाम की सेवा ले रही थी.
  • लेकिन 2001-02 से 2018-19 तक धीरे-धीरे BSNL के भुगतान में कमी होने लगी या फिर रुकने लगा.
  • इस तरह से गेल पर बीएसएनएल की लेनदारी एक लाख, 72 हजार, 655 करोड़ रुपये हो गई. इस तरह की 9 और कंपनियां हैं जिन पर बीएसएनएल के हजारों करोड़ रुपये बाकी हैं.
  • ऑयल इंडिया का—48489 करोड़
  • पावर ग्रिड कॉर्पोर्शन—22062 करोड़
  • गुजरात नर्मदा वैली—-15020 करोड़
  • दिल्ली मेट्रो—-5481 करोड़
  • NICSI— 842 करोड़
  • रेल टेल कॉर्पोरेशन— 307 करोड़
  • सॉफ्टवेयर टेक्नोलोजी—90 करोड़
  • तमिलनाडु ARASU केबल— 65 करोड़
  • एरनेट इंडिया—-  47 करोड़ रुपए बकाया है. (स्त्रोत- दूरसंचार मंत्रालय)

हालांकि बीएसएनएल के बकाया का यह मामला कोर्ट में भी गया था. वहीं इस बकाय के बारे में गेल सहित दूसरी कंपनियों ने कहा है कि उन पर कोई बकाया नहीं निकल रहा है और अब उन पर कोई देनदारी नहीं बनती है.

बीएसएनएल का ब्रॉडबैंड मार्केट में है दबदबा
बीएसएनएल सरकारी दूरसंचार कंपनी है. इसका मुख्यालय नई दिल्ली में है. यह भारत की सबसे बड़ी फिक्स्ड फोन सेवा उपलब्ध कराने वाली कंपनी है. इसके अलावा ब्रॉडबैंड मार्केट में भी बीएसएनएल का दबदबा है. ब्रॉडबैंड मार्केट में बीएसएनएल का कुल मार्केट शेयर करीब 60 फीसदी है.

बीएसएनएल को विशाल नेटवर्क के लिए जाना जाता है. मुंबई-दिल्ली को छोड़कर देश के हर दुर्गम और अलग-थलग पड़े इलाकों में भी BSNL का नेटवर्क मिल जाता है, फिर वो चाहे सियाचिन ग्लेशियर हो या उत्तर पूर्व के राज्य.