हरियाणा में बिना परीक्षा के कैसे दिए जाएंगे नबर इसके लिए गाइडलाइंस जारी, ये है नियम

0
155
views

कोरोना संक्रमण के कारण यूनिवर्सिटी व कॉलेजों में परीक्षा कराए बिना परिणाम घोषित करने के लिए उच्चतर व तकनीकी शिक्षा विभाग ने गाइडलाइन जारी कर दी है. जिसमें साफ कर दिया गया है कि अगर किसी यूनिवर्सिटी व कॉलेज ने आंतरिक मूल्यांकन में विद्यार्थियों को 75 प्रतिशत से ज्यादा अंक दिए तो उसके पिछले रिकार्ड को देखने के साथ ही जांच कराई जा सकती है.

इस परीक्षा परिणाम के आधार पर किसी को मेडल व मेरिट प्रमाण पत्र नहीं दिया जाएगा। इस गाइडलाइन में कोई बिंदू शामिल नहीं किया गया है और किसी बिंदु पर संदेह होता है तो उसके लिए यूनिवर्सिटी के वीसी अपनी कमेटी बनाकर फैसला ले सकते हैं.

किसी की रि-अपीयर है और उसके अप्रैल, मई, जून में परीक्षा होनी थी तो उसका रि-अपीयर का परीक्षा परिणाम भी औसत के आधार पर जारी किया जाएगा. इस तरह ही किसी की कक्षा के साल पूरे होने पर केवल रि-अपीयर की परीक्षा देनी थी तो उसका परिणाम भी औसत के आधार पर जारी होगी. ऐसे ही सेमिनार, ट्रेनिंग, प्रोजेक्ट सभी के अंक यूनिवर्सिटी के विभाग व कालेज अपने अनुसार दे सकेंगे और यूनिवर्सिटी का ग्रेस देने का प्रावधान पहले की तरह लागू होगा.

अप्रैल, मई, जून 2020 की परीक्षा नहीं कराई जाएगी और 50 प्रतिशत अंक आंतरिक व 50 प्रतिशत मुख्य परीक्षा के आधार पर मिलेंगे. केवल उन रि-अपीयर वालों का औसत अंकों के आधार पर परीक्षा परिणाम जारी होगा जो अप्रैल, मई, जून 2020 की परीक्षा देने के लिए पात्र है. पहले रि-अपीयर का परीक्षा परिणाम जारी होगा और उसको भी शामिल करते हुए मुख्य परीक्षा का परिणाम जारी होगा.