राणा गुरजीत सिंह की कंपनी पर दो दिन तक चली IT की रेड, कई दस्तावेज ज़ब्त

0
446
views

चंडीगढ़

रेत खनन विवाद में घिरने के बाद पंजाब में मंत्री पद से इस्तीफा देने वाले राणा गुरजीत की मुश्किलें खत्म होने का नाम नहीं ले रही. आयकर विभाग की टीम ने राणा गुरजीत के परिवार द्वारा चंडीगढ़ और पंजाब में संचालित करीब दस कारोबारी ठिकानों पर शुक्रवार सुबह एक साथ दबिश दी. जो शनिवार देर शाम तक चलती रही. आयकर विभाग के अधिकारी उनके ऑफिस से चार सूटकेस भरकर दस्तावेजों के लेकर गए हैं. जिनकी जांच की जा रही है.

आयकर विभाग के इस सर्वे ऑपरेशन में सत्तर गाड़ियों में लगभग 205 अधिकारी थे. आयकर विभाग की टीम जब चंडीगढ़ के सेक्टर-आठ स्थित राणा ग्रुप ऑफ कंपनीज के हेडक्वार्टर में पहुंची तो दो पुलिसकर्मियों को बाहर तैनात कर दिया गया. इसकी जानकारी मिलते ही कंपनी के आला अधिकारी ऑफिस पहुंच गए.हालांकि किसी भी व्यक्ति को कार्यालय परिसर में जाने की इजाजत नहीं दी गई.

गौरतलब है कि चंडीगढ़ के सेक्टर-8 में राणा ग्रुप आफ कंपनीज के तीन कंपनियों के कार्यालय हैं. इनमें राणा शुगर लिमिटेड, राणा पॉलीकॉट लिमिटेड, राणा इंफॉरमेटिक्स लिमिटेड हैं. पिछले साल पंजाब मे रेत खनन की नीलामी में सफल रहने वाली फर्म ने करोड़ों की बोली लगाई थी.  इस संबंध में विपक्ष ने राणा गुरजीत पर आरोप लगाए थे कि उन्होंने अपने कुक और पूर्व कर्मचारियों के नाम पर ये ठेके लगाए थे. इसके बाद राणा गुरजीत ने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था.

पंजाब सरकार में पूर्व कैबिनेट मंत्री और मौजूदा विधायक राणा गुरजीत सिंह ने पंजाब सरकार में ऊर्जा एवं सिंचाई मंत्री रह चुके है.