सुप्रीम कोर्ट पहुंचा कठुआ केस, पीड़ित परिवार ने की केस ट्रांसफर करने की मांग

0
71
views

जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले में 8 साल की बच्ची की दुष्कर्म के बाद हत्या मामले में पीड़ित परिवार ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की है. याचिका में केस को जम्मू-कश्मीर से बाहर ट्रांसफर करने की मांग की गई है. पीड़ित परिवार इस मामले की सुनवाई चंडीगढ़ ट्रांसफर करवाना चाहता है. पीड़ित परिवार की इस याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में दोपहर 2 बजे सुनवाई होगी.

पीड़ित पक्ष की महिला वकील दीपिका राजावत ने कहा कि इस केस में सियासी दखलंदाजी हो सकती है. हालिया दिनों में आरोपियों के पक्ष में प्रदर्शन से भी वह बेहद चिंतित हैं. इसलिए इस मामले की सुनवाई किसी दूसरे राज्य में होनी चाहिए.

साथ ही पीड़िता की वकील दीपिका सिंह राजावत ने आशंका जताई है कि इस केस की वकील बनने की वजह से उनकी जान को खतरा है और उनकी रेप के बाद हत्या की जा सकती है. इसके साथ ही उन्होंने केस को जम्मू-कश्मीर से बाहर ट्रांसफर करने की मांग की है. वकील दीपिका सिंह राजावत ने केस ट्रांसफर करने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की है. जिस पर सुप्रीम कोर्ट में दोपहर दो बजे सुनवाई होगी.

वहीं इस केस में आज से सीजेएम कोर्ट में सुनवाई शुरू हो गई है. मामले में गिरफ्तार आरोपियों को आज कोर्ट में पेश किया गया. इस मामले में आठ आरोपी हैं, जिसमें एक नाबालिग है. कोर्ट में आरोपी के वकील ने कहा कि हमें पूरी चार्जशीट नहीं मिली है, हम जानकारी के लिए सोशल मीडिया पर निर्भर हैं. जिसके बाद कोर्ट ने चार्जशीट की कॉपी सभी आरोपियों को सौंपने का निर्देश दिया. मामले की अगली सुनवाई 28 अप्रैल को होगी.

बता दें कि आरोपियों के समर्थन में पिछले दिनों जम्मू में रैलियां निकाली गई थी. इस रैली में बीजेपी के दो मंत्री चंद्रप्रकाश गंगा और लाल सिंह भी शामिल हुए थे. जिस पर विवाद बढ़ने के बाद दोनों को जम्मू-कश्मीर मंत्रिमंडल से इस्तीफा देना पड़ा.

कठुआ जिले के रासना जंगल में जनवरी में घोड़ों को चराने गई बकरवाल समुदाय की आठ साल की लड़की लापता हो गई थी. उसका शव एक हफ्ते बाद बरामद किया गया. इस मामले में 9 मार्च को मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में 15 पन्नों की चार्जशीट फाइल की गई थी. जिसके बाद जनवरी में हुई यह घटना सबके सामने आई. जांच में खुलासा हुआ है कि उसे एक मंदिर के अंदर बंधक बना कर रखा गया था और उसके साथ रेप से पहले नशीली दवाएं दी गई और उसकी हत्या कर दी गई.