इनेलो छोड़ चुके सभी 5 विधायकों की सदस्यता रद्द हुई, हुड्‌डा के हाथ आई विपक्ष की कमान

0
43
views

हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष ने दलबदल कानून के तहत पांच विधायकों की सदस्यता रद्द कर दी है. यह सभी इनेलो के विधायक थे. बाद में इनमें से चार ने जेजेपी और एक ने कांग्रेस ज्वाइन कर दी थी. हालांकि दल-बदल के आरोपों का सामना कर रहे इंडियन नेशनल लोकदल इनेलो के चार विधायकों नैना चौटाला, राजदीप फौगाट, अनूप धानक और पिरथी सिंह नंबरदार ने विधानसभा की सदस्यता से कुछ दिन पहले ही इस्तीफा दे दिया था. स्पीकर कंवर पाल गुर्जर ने इस्तीफे स्वीकार करते हुए दलबदल मामले में सुनवाई की और दोनों पक्षों की बहस के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया था.

 

चारों विधायक दलबदल मामले में सुनवाई के लिए विधानसभा अध्यक्ष के समक्ष पेश हुए थे. स्पीकर ने जब विधायकों से जवाब मांगा तो उन्होंने कहा, ‘वे तो पहले ही अपना इस्तीफा दे चुके हैं. अब वे विधायक नहीं रहे. ऐसे में इस केस का भी कोई औचित्य नहीं. इस पर स्पीकर ने कहा, जिस समय याचिका दायर हुई उस समय वे विधायक थे. ऐसे में उस स्थिति के हिसाब से अपना जवाब दें’

 

विधायकों ने अभय द्वारा लगाए गए आरोपों को भी खारिज किया. उन्होंने दो-टूक कहा कि इनेलो नहीं छोड़ी है. न ही उन्होंने जजपा की सदस्यता ग्रहण की है. वैचारिक तौर पर किसी पार्टी की नीतियों का समर्थन करना दलबदल नहीं हो सकता. आरोप है कि चारों विधायक इनेलो से इस्तीफा दिए बगैर ही जजपा के कार्यक्रमों में शामिल होते रहे. इसके चलते इनेलो विधायक रामचंद्र कांबोज ने स्पीकर के समक्ष याचिका दायर करके चारों विधायकों के खिलाफ दलबदल विरोधी कानून के तहत कार्रवाई किए जाने की मांग की थी. बाद में रामचंद्र कंबोज भी अन्य साथियों की तरह भाजपा में शामिल हो गए.