NIA यासीन मलिक और उमर फारुक को आमने-सामने बैठाकर पूछताछ करेगी

0
221
views

जम्मू कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (JKLF) के प्रमुख यासीन मलिक को बुधवार को पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया गया. जिसके बाद कोर्ट ने यासीन मलिक को 22 अप्रैल तक के लिए NIA की हिरासत में भेज दिया है.

  • सूत्रों के मुताबिक खबर है कि NIA यासीन मलिक और मीरवाइज उमर फारुक को आमने-सामने बैठाकर पूछताछ करेगी. आपको बता दें कि यासीन मलिक को मंगलवार को जम्मू के कोट बलवल जेल से दिल्ली स्थित तिहाड़ जेल में शिफ्ट कर दिया गया था.
  • मलिक को टेरर फंडिंग केस में बुधवार को दिल्ली ककी पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया गया.
  • सुरक्षा कारणों को देखते हुए यासीन को तिहाड़ जेल में ट्रांसफर किया गया है.
  • यासीन मलिक पर जम्मू-कश्मीर में आतंकी संगठनों और अलगाववादियों को फंड देने का आरोप है.
  • इससे जुड़े केस में फिलहाल वह सलाखों के पीछे है.
  • JKLF प्रमुख यासीन मलिक को पिछले महीने गिरफ्तार किया गया था और जम्मू के कोट बलवल जेल में डाला गया था.
  • उससे बुधवार को NIA टेरर फंडिंग केस में पूछताछ करेगी.
  • मलिक के खिलाफ CBI ने भी जम्मू कश्मीर हाई कोर्ट में अर्जी डाली है और उसे तकरीबन तीन दशक पुराने मामलों में आरोपित किया है.
  • हाईकोर्ट ने CBI की अर्जी पर फिलहाल अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है.
  • यासीन मलिक पर कई आपराधिक धाराओं के तहत मामले दर्ज हैं.
  • 1989 में तत्कालीन केंद्रीय गृह मंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद की बेटी रूबैया सईद का अपहरण और 1990 में भारतीय वायु सेना के चार जवानों की हत्या के मामले इसमें प्रमुख हैं.
  • NIA ने अभी हाल में जम्मू स्थित विशेष अदालत में गुहार लगाई थी कि टेरर फंडिंग केस में यासीन मलिक से पूछताछ के लिए उसे रिमांड पर दिया जाए.
  • NIA कई घटनाओं की कड़ियों को जोड़ते हुए यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि घाटी में आतंकी गतिविधियों, सेना के जवानों पर पत्थरबाजी और स्कूल-कालेज सहित सरकारी प्रतिष्ठानों पर हमले में यासीन मलिक शामिल है या नहीं .
  • NIA ने अपने केस में पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जमात-उद-दावा के प्रमुख हाफिज सईद का भी नाम शामिल है.
  • इसके अलावा NIA के मुकदमे में सैयद अली शाह गिलानी का धड़ा हुर्रियत कॉन्फ्रेंस, मीरवाइज उमर फारूक, हिजबुल मुजाहिदीन और दुख्तरान-ए-मिल्लत के नाम भी हैं.

गृह मंत्रालय की एक अधिसूचना में कहा गया कि कश्मीर घाटी से कश्मीरी पंडितों को निकालने का यासीन मलिक मास्टरमाइंड रहा है और उनके संहार के लिए जिम्मेदार है. जेकेएलएफ को भारतीय वायुसेना के चार अफसरों की हत्या का इलजाम लगता रहा है. साथ ही उस पर तत्कालीन केंद्रीय गृह मंत्री मुफ्ती मुहम्मद सईद की बेटी रुबैया सईद के अपहरण का भी आरोप लगा था. इससे पहले केंद्र ने जम्मू कश्मीर की जमात-ए-इस्लामी पर प्रतिबंध लगाया था.