केंद्र सरकार का ‘लंगर’ पर फैसला, नहीं लगेगा GST

0
1073
views

केंद्र सरकार ने एक बड़ा फैसला लेते हुए श्री दरबार साहिब समेत तमाम धार्मिक स्थानों पर चल रहे लंगर अब जीएसटी से मुक्त कर दिया है.  इस संबंध में 300 करोड़ रुपए का जीएसटी वापस किया जायेगा. केंद्र सरकार ने चौतरफा दबाव के बाद जीएसटी के केंद्रीय हिस्से और आईजीएसटी  को इन धार्मिक संस्थानों को वापस करने का फैसला किया है. सांस्कृतिक मंत्रालय के अधीन सेवा भोज योजना को लागू करते हुए यह फैसला किया है. जीएसटी का केंद्र सरकार का हिस्सा और आईजीएसटी को वापस किया जाएगा.

बता दें, केंद्रीय कैबिनेट मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने सोशल मीडिया पर एक लेटर लिखते हुए यह जानकारी साझा करते हुए लिखा जीएसटी फ्री लंगर होने पर खुशी जाहिर की. और पीएम मोदी को आभार व्यक्त किया.

गौरतलब है कि पिछले साल 1 जुलाई से जब जीएसटी लागू हुआ था तो सभी धार्मिक संस्थानों पर चलने वाले लंगर भी इसके अधीन आ गए. सबसे ज्यादा आलोचना श्री दरबार साहिब में चल रहे लंगर को लेकर पंजाब में हुई. श्री दरबार साहिब में औसतन एक लाख लोगों के लिए रोजाना लंगर तैयार होता है जिसके लिए खरीदी जाने वाली रसद पर जीएसटी लगने से एसजीपीसी पर यह अतिरिक्त भार पड़ गया.

कैप्टन सरकार ने मार्च महीने में पारित हुए बजट सेशन के दौरान लंगर पर लगाए गए जीएसटी से राज्‍य का हिस्सा माफ करने का फैसला कर लिया, जिसके बाद केंद्र सरकार पर दबाव और बढ़ गया. इस मुद्दे पर सभी पार्टियां बेशक अपने अपने मंच से लंगर रसद से जीएसटी हटाने की मांग कर रही थीं लेकिन उनका सुर एक ही था.