विधानसभा चुनाव 2018: नागालैंड और मेघालय में PM मोदी ने की रैलियां

0
458
views

नागालैंड और मेघालय में होने वाले विधानसभा चुनावों को लेकर सभी पार्टियों ने अपनी कमर कस ली है. बीजेपी की जीत की संभावनाओं को बल देने के लिए पीएम मोदी ने गुरुवार को नागालैंड और मेघालय राज्यों में चुनावी रैलियां की.

नागालैंड के तुएनसांग में प्रधानमंत्री मोदी ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि पूर्वोत्तर के लिए मेरा विज़न है ‘ट्रांसफॉर्मेशन बाय ट्रांसपोर्टेशन’. नागालैंड के साथ-साथ हम ENPO क्षेत्र पर विशेष ध्यान देंगे. उन्होंने कहा कि नागालैंड के लोगों के अधिकारों की रक्षा हमारा कर्तव्य है. हमारी सरकार नागालैंड की भलाई के लिए उठने वाली हर आवाज का सम्मान करती है, हमने हमेशा बातचीत का रास्ता खुला रखा है.

इस दौरान प्रधानमंत्री ने कहा कि नागालैंड में कनेक्टिविटी एक बड़ी समस्या है. इस समस्या को खत्म करने के लिए केंद्र लगातार प्रयास कर रही है. उन्होंने कहा कि पिछले चार साल में नागालैंड में स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए 400 करोड़ रुपये दिए गए हैं. भारत सरकार 1800 करोड़ रुपये कोहिमा को स्मार्ट सिटी बनाने के लिए खर्च करेगी.

उन्होंने कहा कि नागालैंड में भाजपा की सरकार ये सुनिश्चित करेगी कि दिल्ली से आने वाला पूरा पैसा आप तक पहुंचे, हम इस सिस्टम के लूप होल्स को खत्म कर रहे हैं. इस बात की बहुत आवश्यकता है कि नागालैंड में एक मजबूत और स्थिर सरकार बने जो राज्य के विकास के लिए काम करे.

नागालैंड में एक जनसभा को संबोधित करने के बाद प्रधानमंत्री मेघालय पहुंचे. वहां उन्होंने फुलबारी में सभा को संबोधित किया. पीएम ने कहा कि ये समय मेघालय में परिवर्तन का है. प्रदेश की मौजूदा सरकार के समक्ष कोई राजनीतिक चुनौती नहीं है. इसलिए वह जनता के अधिकारों को नजर अंदाज कर रही है.

प्रधानमंत्री ने कहा कि मौजूदा सरकार पर्यटन की ओर कोई ध्यान नहीं दिया. मेघालय में पर्यटन उद्योग काफी फल फूल सकता है. उन्होंने कहा कि मैं आपसे वादा करता हूं कि हम मेघालय का ऐसा विकास करेंगे कि यहां अधिक से अधिक पर्यटक आएं और यहां के लोगों की कमाई का साधन बढ़े. हम एक्ट ईस्ट पॉलिसी को मजबूत बनाएंगे. जिससे पूरे पूर्वोत्तर राज्यों में लोगों के लिए रोजगार के अवसर खुलेंगे.

बता दें कि मेघालय और नागालैंड में 27 फरवरी को विधानसभा चुनाव होने हैं. नागालैंड में 59 विधानसभा सीटें हैं, जबकि मेघालय में 60 विधानसभा सीटें हैं. दोनों राज्यों में तीन मार्च को मतगणना होगी. यह चुनाव नॉर्थ-ईस्ट में पकड़ मजबूत बनाने के लिए भाजपा के लिए बेहद अहम हैं.