पराली से बढ़ते प्रदूषण स्तर को लेकर राजनीति और कोर्ट का रूख

0
117
views

पराली, प्रदूषण और पॉलिटिक्स इन दिनों दिल्ली से लेकर हरियाणा और पंजाब तक यही मुद्दा चल रहा है. दिवाली  के बाद से दिल्ली के पर्यावरण का दिवाला निकला हुआ है. दिल्ली-NCR से लेकर हरियाणा के कई शहरों का दम घुट रहा है. लेकिन सबसे बुरा हाल दिल्ली का है. देश के दिल की फिजाएं ज़हरीली हो चुकी हैं. आसमां में धुएं का गुबार है और सांस पर संकट बना हुआ है.

 

प्रदूषण रोकने के लिए दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने सोमवार से ऑड ईवन का फॉर्मूला लागू कर दिया है. केजरीवाल इसके लिए अपनी पीठ थपथपाते हैं. लेकिन दिल्ली की गलघोंटू हवा के लिए पंजाब और हरियाणा को जिम्मेदार ठहराते हैं.

वहीं, जब आरोप हरियाणा पर लगाए गए तो हरियाणा ने नासा के आंकड़ों के साथ पंजाब के सिर आरोप मढ़ दिए और हरियाणा में कम पराली जलने का हवाला देकर खुद को शाबाशी दी जा रही है. मुख्यमंत्री ने तो नासा की सेटेलाइट इमेज ट्वीट कर अपनी बेकसूरी और पंजाब के दागदार होने का सबूत पेश करने की कोशिश की.