दिल्ली : प्रदूषण बना जानलेवा, 5 नवंबर तक सभी स्कूल बंद

0
97
views

पराली का प्रदूषण इतना बढ़ गया है दिल्ली सरकार को दिल्ली में पब्लिक हेल्थ एमरजेंसी लगानी पड़ी, इतना ही नहीं दिल्ली सरकार ने 5 नवंबर तक सभी स्कूलों को बंद करने के आदेश दिए हैं.

  • दिल्ली-NCR में वायु प्रदूषण के स्तर को सीवीयर प्लस कैटेगरी में रखा गया है.
  • पर्यावरण प्रदूषण रोकथाम और नियंत्रण  ने हेल्थ इमरजेंसी घोषित होने पर सर्दियों के पूरे मौसम पटाखे जलाने पर बैन लगा दिया है.
  • वहीं कंस्ट्रक्शन  पर लगी रोक को 5 नंवबर तक के लिए बढ़ा दिया गया है.
  • दिल्ली में 5 नवंबर तक सभी स्कूल बंद रहेंगे

    बढ़ते वायु प्रदूषण को देखते हुए दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने एक ट्वीट कर ये जानकारी दी है. स्कूलों में खुले मैदान में बच्चों के खेलकूद पर भी रोक लगा दी गई है. किसी भी तरह की आउटडोर एक्टीविटी भी बंद रहेगी.

क्या कहती है CPCB की रिपोर्ट?
वायु प्रदूषण में किस कारक का कितना योगदान है इसके आंकड़े रोज बदलते रहते हैं. इसकी निगरानी करने वाली पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय की एक संस्था है सफर (SAFAR), जिसका पूरा नाम है इंडिया सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी एंड वेदर फॉरकास्टिंग एंड रिसर्च. इसके मुताबिक दिल्ली और आसपास के इलाकों में दूषित हवा के लिए जिम्मेदार कारकों में पंजाब और हरियाणा में पराली जलाने की घटनाओं का 27 प्रतिशत योगदान है.

5 नवंबर की सुबह तक बंद रहेंगे

दिल्ली, नोएडा, ग्रेटर नोएडा, फरीदाबाद, गुरुग्राम, गाजियाबाद में हॉट मिक्स प्लांट और स्टोन क्रशर 5 नवंबर तक पूरी तरह से बंद रहेंगे. कोयले और तेल से चलने वाली फैक्ट्रियां बंद रहेंगी. कंस्ट्रक्शन पर शाम 6 बजे से सुबह 6 बजे तक रोक रहेगी. ये रोक 5 नंवबर तक के लिए बढ़ा दी गई है.

प्रदूषण से आप पर यह हो सकता है ये असर

  • प्रदूषण के चलते आंखों की रोशनी, फेफड़ाें में परेशानी, सिर दर्द, त्वचा में इंफेक्‍शन यहां तक की नर्वस सिस्टम की परेशानी भी हो सकती है.
  • ऐसे हालात में डायरिया होना एक सामान्य बीमारी है.
  • सांस के जरिए शरीर में पहुंचने वाले प्रदूषण के हानिकारक तत्व खून में मिलकर कई अन्य रोगों को जन्म देते हैं, जो काफी खतरनाक भी साबित हो सकते हैं.