PPP मॉडल से रेलवे को मिलेगी रफ्तार

0
173
views

देश की पहली पूर्णकालिक महिला केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला बजट शुक्रवार को संसद में पेश कर रही हैं। बजट भाषण देते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि रेलवे इंफ्रास्ट्रक्चर को 2018-2030 के बीच 50 लाख करोड़ रुपये की जरूरत होगी। उन्होंने कहा कि तेजी से विकास और यात्री माल ढुलाई सेवाओं के लिए सार्वजनिक-निजी भागीदारी (पीपीपी) का उपयोग किया जाएगा।

मेट्रो रेल के लिए अधिक से अधिक पीपीपी का इस्तेमाल
वित्त मंत्री ने घोषणा करते हुए कहा कि मेट्रो रेल में ज्यादा से ज्यादा पीपीपी का इस्तेमाल किया जाएगा।

गांव, गरीब किसान
बजट भाषण में वित्त मंत्री ने कहा कि महात्मा गांधी ने कहा था कि भारत की आत्मा गांवों बसती है। गांव, गरीब और किसान सरकार के हर कार्यक्रम के केंद्र बिंदु हैं। उज्ज्वला और सौभाग्य योजना ने कई परिवारों का भविष्य बदला है। 7 करोड़ एलपीजी कनेक्शन मिले हैं।

उन्होंने कहा कि मैं विश्वास दिलाती हूं कि हर गांव के परिवार को, बिना उनको जो कनेक्शन लेने के इच्छुक नहीं है, उनको 2022 में बिजली और क्लीन कुकिंग उपलब्ध करवाएई जाएगी। 2022 तक हाउजिंग फॉर ऑल होगी। पीएमएवी गांग्रीण के तहत 1.95 करोड़ घर उपलब्ध करवाए जाएंगे, इसमें शौचलाय और अन्य जरूरी सुविधाएं होंगी।