लोकसभा में सोनिया गांधी ने कहा- देश की PSU कंपनियां खतरे में हैं

0
74
views

लोकसभा की कार्यवाही के दौरान मंगलवार को यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी ने अपने संसदीय क्षेत्र रायबरेली समेत रेलवे की 6 यूनिट्स के निजीकरण का मुद्दा उठाया. अपने संसदीय क्षेत्र रायबरेली का मुद्दा उठाया. सोनिया ने कहा कि रायबरेली की कोच फैक्ट्री का कंपनीकरण किया जा रहा है, जो निजीकरण की शुरुआत है. यह देश की अमूल्य संपत्ति को कौड़ियों के दाम चंद निजी हाथों के हवाले करने की पहली प्रक्रिया है और इससे हजारों लोग बेरोजगार होंगे.

रायबरेली से सांसद सोनिया गांधी ने केंद्र सरकार पर हमला बोलने के साथ ही देश के पहले प्रधानमंत्री को भी याद किया. उन्होंने कहा, ‘देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू सार्वजनिक उद्योगों को देश के विकास की पूंजी मानते थे. बहुत ही दुख के साथ कहना पड़ रहा है कि यह सरकार मजदूर और गरीब लोगों को भूलकर सिर्फ कुछ पूंजीपतियों को फायदा पहुंचाने के लिए काम कर रही है. मजदूरों का हक छीनकर कैसे उद्योगपतियों को लाभ पहुंचाया जा रहा है, यह बात किसी से छुपी नहीं है.’

सोनिया गांधी ने कहा, ‘असली चिंता तो इस बात की है सरकार ने इस प्रयोग के लिए रायबरेली के मॉडर्न कोच कारखाने को चुना है, जो कई कामयाब परियोजनाओं में से एक है. इस कोच फैक्ट्री को पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह के नेतृत्व में तत्कालीन यूपीए सरकार ने देश के घरेलू उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए यानी ‘मेक इन इंडिया’ के लिए शुरू किया था.’

रेलवे बजट बंद करने पर भी उठाए सवाल

सोनिया गांधी ने कहा कि किसी के लिए भी समझना मुश्किल है कि क्यों यह सरकार ऐसी औद्योगिक इकाई का निगमीकरण करना चाहती है. यूपीए चेयरपर्सन ने कहा कि इस सरकार ने संसद में अलग से रेल बजट पेश करने की परंपरा क्यों बंद कर दी? पता नहीं. उन्होंने कहा कि HAL, BSNL और MTNL के साथ क्या हो रहा है, किसी से छिपा नहीं है.

आखिर में सोनिया गांधी ने कहा ‘सरकार से मेरी गुजारिश है कि रायबरेली की मॉडर्न कोच फैक्ट्री और सार्वजनिक क्षेत्र की सभी संपत्तियों की पूरी रक्षा करे. इन्हें चलाने वाले मजदूरों और कर्मचारियों व उनके परिवारों के प्रति आदर और सम्मान का भाव रखे.