पंजाब: फिर उठी जिम खोलने मांग, सीएम अमरिंदर सिंह बोले- खुले में कसरत करो

0
147
views

पंजाब: कोरोना के कारण लॉकडाउन के बाद काफी सेवाएं शुरू हो गई हैं, लेकिन जिम पर अब भी ताले लगे हैं। इससे जिम मे कसरत के लिए जाने वाले परेशान हैं। पंजाब में लोगों ने सीएम कैप्‍टन अमरिंदर सिंह के सोशल मीडिया पर लाइव होने के दौरान मांग की कि अब राज्‍य में जिम खोले जाएं। इस पर कैप्‍टन अमरिंदर ने जवाब दिया कि खुले में कसरत करें, यह स्‍वास्‍थ्‍य के लिए अच्‍छा होता है।

दरअसल कोरोना वायरस के कारण हुए जिम बंद होना कसरत करने के शौकीनों पर भारी पड़ रहा है। जिम बंद है। पार्कों में सैर करने वाले लोगों की संख्या तो बढ़ी है लेकिन डर भी बढ़ गया है। जिम खोलने का मुद्दा मुख्यमंत्री के पास भी उठ रहा है। तीन माह से अधिक समय से बंद पड़े जिम को खोलने को लेकर मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह से उनके फेसबुक लाइव पर काफी संख्‍या में लोगोंं ने जिम खोलने के अपील की। मुख्यमंत्री ने जवाब दिया, खुले में कसरत करो, यही आपके लिए सुरक्षित रहेगा।

Will go by expert panel advice on lockdown lifting, says Capt ...

पूरे देश में चल रही अनलाॅक प्रक्रिया के तहत भले ही हालात काफी हद तक सामान्य हो रहे हैं। इंडस्ट्री, बसें, ट्रेन, शापिंग माल, होटल-रेस्टोरेंट आदि खुल गए हैं लेकिन शिक्षण संस्थान, स्वीमिंग पूल की तरह ही जिम भी बंद हैं। जिम बंद होने की वजह से कसरत के शौकीन लोग बेचैन है। कुछ लोगों ने तो जिम का थोड़ा बहुत सामान खरीद कर घर पर ही कसरत करनी शुरू कर दी है।

बहुत सारे लोग अभी भी जिम खुलने का इंतजार कर रहे है। जिम खोलने को लेकर अभी तक 1700 लोगों ने पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को अलग-अलग माध्यमों से अपील की है। किसी ने पत्र लिखा है तो किसी ने फेस बुक पर पोस्ट डाला है।

मुख्यमंत्री के फेसबुक लाइन के दौरान ऐसे व्‍यक्ति ने सीधा-सीधा सवाल पूछ लिया। मुख्यमंत्री जी जिम कब खोलेंगे?, इस पर कैप्टन ने भी फिलहाल जिम खोलने से साफ मना कर दिया। कैप्‍टन अमरिंदर ने कहा कि अभी तक 1700 से ज्यादा लोगों द्वारा यह सवाल पूछा जा चुका है। जिम खोलने का फैसला पंजाब सरकार को नहीं बल्कि केंद्र सरकार ने करना है, क्योंकि पूरे देश में राष्ट्रीय आपदा अधिनियम लागू है। कैप्टन ने कहा, जिम से वायरस के विस्तार की संभावना काफी बढ़ जाती है। इसलिए नौजवान खुले में ही कसरत करें। यह उनके लिए भी अच्छा रहेगा और समाज के लिए भी।