गणतंत्र दिवस परेड : भगवान रघुनाथ जी और कुल्लू दशहरा की दिखेगी झांकी

0
528
views

शिमला. हिमाचल प्रदेश के लिए गर्व की बात है कि इस बार राजपथ पर कुल्लू दशहरा की झलक दिखेगी. भगवान रघुनाथ की झांकी 26 जनवरी को राजपथ पर गणतंत्र दिवस  की परेड का हिस्सा बनेगी.

  • कुल्लू दशहरा  के मॉडल को रक्षा मंत्रालय ने मंजूरी दी थी.
  • गुरुवार को परेड की रिहर्सल भी राजपथ पर हुई है, इसमें कुल्ल दशहरा का मॉडल भी शामिल था.
  • इससे पहले, साल 1999 में कुल्लू दशहरे की झलक राजपथ पर देखी गई थी.
  • मॉडल को मंजूरी के लिए तीन राउंड से हो कर गुजरना पड़ता है.
  • पिछली बार हिमाचल का महात्मा गांधी का मॉडल तीसरे राउंड में ही बाहर हो गया था.
  • इस बार के मॉडल ने तीनों राउंड पार कर लिए है और 26 जनवरी को राजपथ पर आने वाली झांकी में अपनी जगह बनाई.
  • इस बार राजपथ पर झांकी के लिए रक्षा मंत्रालय ने 16 राज्यों को सिलेक्ट किया है, जिसमें हिमाचल भी एक है.

मॉडल में ये है खास
मॉडल में मुख्यतौर से भगवान रघुनाथ का रथ बनाया गया है. इसे करीब 5 लोग, उसी तरह खींचते हुए दिखाई देंगे, जैसे दशहरा उत्सव के दौरान होता है. रथ के अलावा मॉडल पर दो और देवता भी होंगे और सबसे आगे देवता की पालकी होगी और इसमें देवता की विभिन्न मोहरें लगाई गई हैं. इनमें से चार लोग देवता को कंघे पर बैठाकर दिखाए जाएंगे और एक कलाकार करनाल बजाएगा. वहीं, 10 लोग झांकी के दाएं और 10 लोग झांकी के बाएं रहेंगे. इस दौरान पारंपरिक वाद्य यंत्र ढोल-नगाढ़ा, करनाल और शहनाई बजेगी. मॉडल के साथ कुल्लू के ही लगभग 30 कलाकार होंगे. चिन्हित स्थान पर पहुंचते ही एक पारंपरिक देव धुन बजाई जाएगी. धुन बजने का समय 65 सेकेंड रहेगा.

इससे पहले ये मॉडल हुए थे शामिल 
झांकी को दिल्ली के आरआर केम्प और कैंट एरिया में बनाया गया . इससे पहले, साल 2018 में राजपथ पर लाहौल-स्पीति की गोंपा झांकी की झलक दिखी थी. अब तक चार मर्तबा हिमाचल की झांकिया राजपथ पर देखी गई हैं. 2007 में लाहौल स्पीति, 2012 में किन्नौर, 2017 में चंबा का रूमाल और 2018 में लाहौल स्पीति की की-गोंपा की झांकी परेड में शामिल हुईं थी. 2012 के बाद करीब 5 साल के बाद 2017 में हिमाचल को राजपथ पर अपनी संस्कृति दिखाने का मौका मिला था.