कांगड़ा : आतंकी हमले के अलर्ट के बाद पुलिस, कमांडों का ज्वाइंट सर्च ऑपरेशन

0
156
views

नूरपुर (कांगड़ा). पंजाब में आतंकी हमले के अलर्ट के बाद हिमाचल में भी पुलिस सतर्क हो गई, हिमाचल के कई जिलों की सीमाएं पंजाब से मिलती हैं, जिसके बाद यहां पर कई इलाकों में सर्च ऑपरेशन चलाया गया.

  • हिमाचल पुलिस (Himachal Police) ने नूरपुर (Nurpur) के डीएसपी डॉ. साहिल अरोड़ा के नेतृत्व में इलाके के चक्की दरिया के साथ लगते गुज्जर समुदाय और झुग्गी झोपड़ी वालों, क्रशर की लेबर और भद्रोया में निजी संस्थान में सर्च ऑपरेशन (Search Operation) चलाया.
  • इस दौरान पुलिस ने हॉस्टल के कमरों की जांच की. पुलिस चौकी ढांगू के तहत एयरफोर्स एरिया (Air force Area) के साथ लगते गांव और जंगलों में सर्च अभियान चलाया गया.
  • पठानकोट एयरबेस से चार किमी दूर है इलाका
  • रविवार को थाना और चौकी प्रभारियों के साथ भारी संख्या में पहुंचे पुलिस और कमांडो टीम ने जंगल का चप्पा-चप्पा छाना.
  • हालांकि, पुलिस के हाथ कोई संदिग्ध वस्तु या व्यक्ति नहीं लगा है. बता दें कि जंगल का सुनसान एरिया होने के कारण पुलिस या आम नागरिक यहां नहीं पहुंच पाते हैं.
  • दोनों राज्यों की सीमा होने के अलावा उक्त पहाड़ी एरिया पठानकोट एयरबेस से महज 4 किलोमीटर की दूरी पर है.
  • यह पहाड़ी एरिया पठानकोट एयरबेस से महज 4 किलोमीटर की दूरी पर है.यह पहाड़ी एरिया पठानकोट एयरबेस से महज 4 किलोमीटर की दूरी पर है.

लोगों को हिदायतें जारी
पठानकोट में आतंकी हमले की इनपुट के बाद एसएसपी विमुक्त रंजन के निर्देश के बाद यह पुलिस ने यहां सर्च ऑपरेशन चलाया. इस पुलिस टीमों ने जंगली इलाके में बसे लोगों के घरों में भी सर्च के साथ पूछताछ भी की. इस दौरान लोगों को हिदायत दी गई कि यदि कोई संदिग्ध व्यक्ति, वस्तु या गतिविधि दिखाई दे तो तुरंत पुलिस को सूचित करें.

यह बोले डीएसपी
डीएसपी ने कहा कि जंगली इलाका होने के चलते यहां कोई असमाजिक तत्व अपना ठिकाना बना सकता है. इसके चलते पुलिस ने सर्च ऑपरेशन चलाया. उन्होंने कहा कि अलर्ट के अलावा त्यौहारी सीजन है, पुलिस लोगों की सुरक्षा को लेकर गंभीर है. भविष्य में भी इस प्रकार के सर्च ऑपरेशन चलाए जाएंगे, ताकि शहरी एरिया के साथ-साथ सुनसान इलाकों पर भी नजर रखी जा सके. मौके पर नूरपुर थाना प्रभारी के भाटिया, कंडवाल चौकी प्रभारी प्रीतम जरियाल, ढांगू चौकी गुरध्यान शर्मा, थाना प्रभारी इंदौरा सुरिंदर धीमान और करीब 300 पुलिस जवान सर्च ऑपरेशन में शामिल थे.