नई दिल्ली भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने अपनी समीक्षा बैठक में ब्याज दरों को यथावत रखने का फैसला किया है। आरबीआई ने रेपो रेट को 6 फीसद पर और रिवर्स रेपो रेट को 5.75 फीसद पर बरकरार रखा है। इसके साथ ही आरबीआई ने इकोनॉमिक ग्रोथ का अनुमान घटाकर 6.7 फीसद कर दिया है। आरबीआई के इस फैसले से अब सस्ते लोन का इंतजार और बढ़ गया है। गौरतलब है कि एमपीसी की अगली बैठक 5-6 दिसंबर को होगी। बैंक रेट में कोई कटौती नहीं, एसएलआर में आई कमी: आरबीआई ने बैंक रेट और एमएसएफ (MSF) को 6.25 फीसद पर बरकरार रखा

वित्‍त मंत्रालय ने बुधवार को कहा कि RBI द्वारा चिन्हित 12 सबसे बड़े ऋण चूककर्ताओं या डिफॉल्टरों के नाम शीघ्र ही सार्वजनिक किए जाएंगे. केंद्रीय बैंक ने मंगलवार को कहा था कि दिवालिया प्रक्रिया शुरू करने के लिए 12 बड़े डिफॉल्टरों को चिन्हित किया है. बैंक ने कहा कि बैंकिंग क्षेत्र की कुल गैर निष्पादित आस्तियों एनपीए में इनका 12 डिफॉल्टरों का हिस्सा 25 प्रतिशत है. वित्‍त मंत्रालय के प्रधान आर्थिक सलाहकार संजय सान्याल ने कहा 12 मामलों को चिन्हित किया गया है, नाम जल्द ही सार्वजनिक होंगे. फंसे कर्ज में इनका हिस्सा 25 प्रतिशत है. केंद्रीय बैंक द्वारा चिन्हित 12 डिफॉल्टरों में से