राज्यपाल एनएन वोहरा ने ‘जम्मू और कश्मीर लोक संपत्ति संशोधन अध्यादेश 2017’ को वीरवार को लागू कर दिया। उक्त अध्यादेश सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाए जाने पर होने वाली मौजूदा कार्रवाई के कानून को संशोधित करता है। इस अध्यादेश के तहत जो भी हड़तालों, प्रदर्शनों या किसी भी तरीके से किए गए विरोध प्रदर्शनों में सार्वजनिक और निजी संपत्ति को नुकसान पहुंचाता है, उसे 2 से 5 साल के कारावास की सजा दी जा सकती है और उन क्षतिग्रस्त या नष्ट हुई संपत्ति के बाजार मूल्य के बराबर जुर्माना भी लगाया जा सकता है। इसके अलावा मौजूदा कानून का दायरा जो पहले

जम्मू-कश्मीर पुलिस ने हुर्रियत नेता सैयद अली शाह गिलानी गुट के खिलाफ देशविरोधी भाषण देने के मामले में FIR दर्ज हुई है. उनके अलावा उनके वकील देवेंदर सिंह बहल के खिलाफ भी मामला दर्ज किया गया है. दोनों एक वीडियो में देशविरोधी भाषण दे रहे थे, जो कि सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा था. वायरल वीडियो में देवेंदर सिंह बहल एक सेमिनार को संबोधित कर रहे थे. भाषण में वो NIA और केंद्र सरकार के खिलाफ बोल रहे थे. उन्होंने सरकार और NIA पर उनके मूवमेंट को दबाने का आरोप लगा रहे थे. गौरतलब है कि एक न्यूज चैनल के स्टिंग

टेरर फंडिंग केस में एऩआईए ने आज सुबह सात बजे जम्मू-कश्मीर के बड़गाम स्थित हिजबुल मुजाहिद्दीन के मुखिया सैयद सलाउद्दीन के बेटे के घर छापेमारी की. एनआईए की टीम ने सलाउद्दीन के बेटे के घर से कई दस्तावेज बरामद किए हैं. यह रेड सलाउद्दीन के बेटे शाहिद यूसुफ की गिरफ्तारी के ठीक दो दिन बाद की गई है. शाहिद को 2011 में टेरर फंडिंग केस के मामले में गिरफ्तार किया गया है. माना जा रहा है कि उससे पूछताछ के बाद ही ये छापेमारी हुई है. आपको बता दें कि आज तक के ऑपरेशन हुर्रियत के बाद आतंकवाद को फंडिंग के

जम्मू-कश्मीर  के डीजीपी शेष पॉल वैद्य ने जानकारी दी कि, इस साल चलाए गए पुलिस के सुरक्षा अभियान में अब तक 160 आतंकी मौत के घाट उतारे गए हैं। मगर उन्होंने साफ किया है कि राज्य को राजनीतिक इच्छाशक्ति की जरूरत है। बतौर डीजीपी राज्य के बेरोजगार युवकों पर समाज के आपराधिक एवं खतरनाक लोगों की नजर है, इसलिए केन्द्र सरकार को सकारात्मक कदम उठाते हुए कश्मीरी युवकों को रोजगार देने की दिशा में सख्त कदम उठाने चाहिए। उन्होंने कहा, “इस बात में कोई संदेह नहीं है कि राज्य को दृढ़ राजनैतिक इच्छाशक्ति की जरूरत है। अगर यह उठाया जा रहा

जम्मू एवं कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ अभियान में सुरक्षा बलों को एक बार फिर से बड़ी कामयाबी मिली है. पुलवामा में सुरक्षा बलों ने खूंखार आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के कमांडर वसीम अहमद शाह और आतंकी निसार अहमद मीर को मार गिराया. शनिवार सुबह से ही सुरक्षा बलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी है. इससे पहले सुरक्षा बलों ने लश्कर-ए-तैय्यबा के कमांडर समेत 3 आतंकियों को घेर लिया. फिलहाल दोनों ओर से भारी गोलीबारी जारी है. इससे पहले बुधवार को जम्मू-कश्मीर के बांदीपुरा जिले में हुए मुठभेड़ में सुरक्षा बलों ने आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकवादियों को मार गिराया

जम्मू-कश्मीर सरकार के लिए उस समय शर्मनाक स्थिति पैदा हो गई जब एक अलगाववादी नेता की फोटो बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान के पोस्टर में लग गई। इस पोस्टर में भारत की पूर्व पीएम इंदिरा गांधी, लता मंगेशकर और सीएम महबूबा मुफ्ती के साथ अलगाववादी नेता आसिया अंद्राबी की फोटो लगा दी गई है। आसिया अंद्राबी फिलहाल जेल में बंद हैं। पोस्टर का उद्देश्य उपलब्धियां हासिल करने वाली देश की महिलाओं को दिखाना है। इसे दक्षिण कश्मीर के कोकरनाग इलाके में बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए आयोजित एक समारोह में लगाया गया था। अंद्राबी पाकिस्तान समर्थक दुख्तरान-ए-मिल्लत संगठन की

उत्तरी कश्मीर में बांदीपोरा जिले के हाजिन इलाके में सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच आज सुबह से हुई. मुठभेड़ में सेना के दो जवान शहीद हो गए. वहीं जवानों ने दो आतंकियों को ढेर कर दिया है.  आतंकी लश्कर-ए-तैयबा के बताए जा रहे हैं. यह मुठभेड़ बांदीपोरा के हाजिन इलाके में हो रही है. इस ऑपरेशन को सीआरपीएफ, 13 RR की टीमें अंजाम दे रही हैं. जम्मू-कश्मीर पुलिस को हाजिन इलाके में आतंकियों के छिपे होने की खबर मिली जिसके बाद मंगलवार देर रात को जवानों ने पूरे इलाके को घेर लिया. जिसके बाद आतंकियों ने सेना पर फायरिंग

बडगाम में आतंकियों द्वारा घात लगाकर किए गए हमले में सेना का एक जेसीओ राजकुमार शहीद हो गया। लेकिन हमलावर आतंकी भागने में कामयाब रहे। उन्हें पकडऩे के लिए सुरक्षाबलों ने एक विशेष अभियान चला रखा है। शहीद जेसीओ जम्मू कश्मीर के साथ सटे हिमाचल प्रदेश के खन्नी गांव के रहने वाले थे। वर्ष 1990 में सेना मे भर्ती हुए शहीद राजकुमार के परिवार में अब उनकी पत्नी तोशी देवी और दो पुत्र रह गए हैं। अंतिम श्रद्घांजली के बाद शहीद का पार्थिव शरीर पूरे सैन्य सम्मान के साथ उनके परिवार के पास भेज दिया गया है। यहां मिली जानकारी के अनुसार,

सुरक्षाबलों और पुलिस ने डोडा के देसा इलाके में संयुक्त अभियान के दौरान हिज्बुल मुजाहिदीन के एक बड़े ठिकाने का पता चला है. आतंकियों के इस ठिकाने से भारी मात्रा में गोला बारूद बरामद किया. देसा इलाके में आतंकियों के छिपने के ठिकाने की पुख्ता सूचना मिलने के बाद सेना और पुलिस ने इलाके को घेरकर तलाशी अभियान चलाया. इसमें 10 आरआर की टुकड़ी ने भी हिस्सा लिया. इस दौरान चट्टानों की ओट में प्राकृतिक गुफा को तलाश लिया गया, जहां आतंकी छिपते थे.सुरक्षाबलों ने वहां से एक एके 47 राइफल, 12 बोर की 8 राइफलें, एक अंडर बैरल ग्रेनेड लांचर,

जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों ने आतंकियों की घुसपैठ को नाकाम कर दिया है. उरी के जोरावर में घुसपैठ की कोशिश कर रहे आतंकियों से सेना की मुठभेड़ चल रही है.जिसमें अब तक एक आतंकी मारा जा चुका है उसके पास के हथियार भी बरामद हुए है. फिलहाल, सेना ने इलाके की घेराबंदी कर सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया है.