चंडीगढ़ सारंगपुर में ट्यूशन पढ़ने आने वाली नाबालिग छात्रा से दुष्कर्म करने वाले दोषी टीचर को जिला अदालत ने 10 साल की सजा सुनाई है। पीडि़ता के टीचर सारंगपुर निवासी निश्चल सदाना उर्फ अशोक कुमार को कोर्ट ने 6 अक्टूबर को दोषी करार कर दिया था। इसके साथ उस पर 1.58 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। अदालत ने इस जुर्माना राशि में से 1.50 लाख रुपये बतौर मुआवजा पीडि़ता को देने के आदेश दिए हैं। मूलरूप से लुधियाना निवासी टीचर के खिलाफ पीडि़ता की मां की शिकायत पर सारंगपुर थाना पुलिस ने 10 मई 2016 को आईपीसी की धारा 341, 379

हैदराबाद के एक प्राइवेट स्कूल में एक टीचर ने 11 साल की छात्रा को लड़कों के टॉयलेट में खड़े होने की सजा दी. छात्रा की गलती केवल इतनी थी कि वह उचित यूनिफॉर्म पहनकर स्कूल नहीं आई थी. छात्रा ने बताया कि उसकी मां ने उसका यूनिफॉर्म धोया था. वह सूख नहीं पाया था इसलिए वह सिविल ड्रेस में स्कूल चली गई. छात्रा ने बताया कि उसके पैरेंट्स ने सिविल ड्रेस पहनकर स्‍कूल आने के कारण के बारे में डायरी में लिख भी दिया है. इसके बावजूद टीचर ने उसकी बात नहीं सुनी और उसे लड़कों के टॉयलेट में लेकर चली

तमिलनाडु में एक 7वीं क्लास की छात्रा ने बिल्डिंग से कूदकर आत्महत्या कर ली. घटना से पहले स्कूल टीचर ने पीरियड्स की वजह से उसकी यूनिफार्म पर लगे खून के धब्बों के लिए उसे डांटा था. डांट से वह इतनी शर्मिंदा हुई कि उसने अपनी जान दे दी. शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज पुलिस मामले की जांच कर रही है. मिली जानकारी के अनुसार, घटना तिरुनेलवेली इलाके की है. मृतका का नाम विनेश्वरी (बदला हुआ नाम) था. बुधवार को विनेश्वरी की स्कूल यूनिफार्म पीरियड्स के खून के धब्बों की वजह से खराब हो गई. उसने जब टीचर को यह बताया तो वह

पटियाला: ब्रिटिश कोएड हाई स्कूल में टूर से वापिस आए बच्चों के पेरेंट्स ने स्कूल में जमकर हंगामा किया. पेरेंट्स का आरोप है कि शुक्रवार और शनिवार को लगातार दो दिन शिमला में टूर के दौरान स्कूल के इंग्लिश टीचर विकास देवन ने शराब पीकर उनके बच्चों की पिटाई की थी. केवल इस पर ही टीचर का गुस्सा शांत नहीं हुआ, उसने बच्चों को चप्पल, बेल्ट आदि से भी पीटा. इसके बाद बच्चों ने सारी घटना के बारे में अपने पेरेंट्स को बताया और टूर से वापिस आते ही स्कूल के बाहर हंगामा हो गया. गुस्साए पेरेंट्स ने टीचर विकास देवन की