दिल्ली-एनसीआर में हुई सीजन की पहली बारिश से मौसम का मिसाज बदल गया है। बारिश के कारण ठंड बढ़ने के आसार है। इस बीच बारिश का असर ट्रेनों के शेड्यूल पर भी पड़ रहा है। दिल्ली से चलने वाली 27 ट्रेनों अपने निर्धारित समय से देरी से चल रही हैं, कई ट्रेनों को पुनर्निर्धारित किया गया है, जबकि लो विजिबिलिटी की वजह से परिचालन कारणों में आ रहीं दिक्कतों के चलते 15 ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है। बता दें कि सोमवार देर शाम से ही दिल्ली-एनसीआर का मौसम खराब हो रखा है। देर शाम से हल्की बूंदाबांदी से शुरू

मुरादाबाद जनसेवा एक्सप्रेस 15210 से सीतापुर स्टेशन के पास तीन बच्चियों को फेंक दिया गया। आरपीएफ सीतापुर के जवान ने इसे देखा तो जिला अस्पताल में भर्ती कराया। जिसमें एक बच्ची की मौत हो गई। जबकि दो का इलाज चल रहा है। जो बच्चियां घायल हैं उनकी उम्र छह और तीन साल है। जिसकी मौत हो गई वह आठ साल की थी। ये बिहार के मोतिहारी जिले की रहने वाली हैं और इनके माता पिता पंजाब में कहीं मजदूरी करते हैं। बच्चियों ने आरपीएफ और सिविल पुलिस को बताया कि वे पांच बहने हैं। ट्रेन से हम तीनों को पिता ने

कोलकाता ज़िंदगी का कभी भरोसा नहीं, ये बात हम सब शुरू से सुनते आए हैं, और जब कभी ये बात हकीकत से टकराती है तो ज़िंदगियां मातम करती हैं. देखिए, एक ऐसा ही वाकया कोलकाता लोकल में हुआ. लोकल ट्रेन का एक चालक अचानक बीमार हो गया, चलती ट्रेन पर बेहोश होकर वो ट्रेन की सीधी तरफ जा गिरा. यात्रियों के लिए सौभाग्य की बात रही कि ट्रेन खुद ही एक पड़ाव पर जा रुक गई, क्योंकि चालक ने गिरने से पहले-पहले स्वचालित स्विच का ट्रिगर दबा चुका था. बीमार ड्राइवर हैदर का इलाज अस्पात में चल रहा है. उन्हें चोटें भी आई

नई दिल्ली अब ट्रेन में यात्रा करते हुए पहचान के लिए आधार कार्ड साथ रखने की जरूरत नहीं होगी. मोबाइल फोन पर मौजूद एम-आधार ही पहचान के लिए पर्याप्त होगा. रेलवे ने एम-आधार को पहचान के सबूत के रूप में स्वीकार कर लिया है. रेल मंत्रालय ने किसी भी आरक्षित वर्ग में यात्रा के उद्देश्य के लिए पहचान के निर्धारित सबूत के रूप में एम-आधार (मोबाइल एप पर आधार कार्ड) को अनुमति देने का निर्णय लिया है. मंत्रालय ने बुधवार को यह घोषणा की. रेलवे ने कहा है कि "यात्री द्वारा अपने मोबाइल पर पासवर्ड दर्ज करने के बाद दिखाए गए एम-आधार को भारतीय रेलवे के