पंजाब में डेंगू ने तेजी से पैर पसारने शुरू कर दिए हैं. पंजाब के मलेरकोटला के सरकारी और निजी अस्पतालों में डेंगू और वायरल बुखार के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. वहीं सरकारी अस्पतालों में बेड की कमी होने के चलते मरीज निजी अस्पतालों की ओर रूख कर रहे है. उधर, सरकारी सरकारी अस्पताल की हैरान करने वाली तस्वीरें भी सामने आई है. अस्पताल में डेंगू के वार्ड पर ताला लगा हुआ मिला. वहीं, मामला में अस्पताल के एसएमओ ने कहा की अस्पताल में अब तक डेंगू संभावित तीन ही मरीज आए है जिन्हें वायरल बुखार के

बरनाला को डेंगू की बीमारी ने अपनी चपेट में ले लिया है। सिविल अस्पताल बरनाला में क्षमता से अधिक डेंगू की बीमारी से पीड़ित दाखिल हैं, जिस कारण मरीज वार्डों की बजाए बाहर चारपाइयों पर इलाज करवाने को मजबूर हैं। एक महीने में एक सौ सोलह पॉजीटिव मरीज डेंगू के सिविल अस्पताल में आ चुके हैं, जबकि 200 से अधिक संदिग्ध मरीज सिविल अस्पताल में अपना इलाज करवा रहे हैं। वहीं बुधवार को भी सोलह डेंगू के मरीजों की पुष्टि की गई है। ये आंकड़े सिर्फ सरकारी अस्पताल बरनाला के हैं। डेंगू की बीमारी के फैलने का मुख्य कारण सफाई का

साइबर सिटी गुरुग्राम में डेंगू-मलेरिया का डंक अभी भी जारी हैं. स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक अभी तक 100 से ज्यादा डेंगू  के संदिग्ध मामले सामने आए है जबकि 44 लोगों को डेंगू का डंक लग चुका है,  जबकि 46 मरीजो को मलेरिया का डंक लगा हैं. एेसे में स्वास्थ्य विभाग ने भी डेंगू-मलेरिया से निपटने के लिए पुख्ता तैयारी शुरु कर दी है. साथ ही साथ सभी प्राइवेट लैब औऱ अस्पतालों में टेस्ट से लेकर हिदायतें जारी की हैं. डेंगू मलेरिया को लेकर जहां स्वास्थ्य विभाग ने अपनी तैयारियां पहले से ही शुरु कर दी थी तो कुछ प्राइवेट अस्पताल भी डेंगू को लेकर जागरुकता अभियान चला रहे है, जिसके लिए

करनाल में डेंगू ने अपने पैर पसार लिए हैं. जिले में डेंगू के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है. अब तक डेंगू के पच्चीस मामले पॉजिटिव पाए गए हैं. इसके अलाव दूसरे जिलों से भी डेंगू के सत्रह सैंपल पॉजिटिव मिले हैं. वहीं, लगातार बढ़ रहे डेंगू को लेकर स्वास्थ्य विभाग अलर्ट है. स्वास्थ्य विभाग की ओर से लोगों को जागरूक किया जा रहा है.

जालंधर मौसम में बदलाव के साथ कई बीमारियों ने अपने पैर पसारने शुरू कर दिए है. जालंधर में भी डेंगू के तीन मामले सामने आए है जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग सर्तक नज़र आ रहा है. बता दे कि जालन्धर के सिविल सर्जन खुद मैदान पर उतरे और उनके साथ स्वास्थ्य विभाग और नगर निगम की टीम ने भी लोगो को जागरूक करने का काम किया. इन टीमों ने खुद मौके का जायजा लिया और जिन इलाकों में टीम पहुंची वहां डेंगू का एक मरीज पाया गया और कई घरों में रखें मिट्टी के बर्तनों और गमलों में डेंगू का लार्वा भी मिला जिसके