पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड की तरफ से प्रेशर हॉर्न, मल्टीटोन हॉर्नों और पटाखायुक्त साइलैंसरों पर की सख्ती के कारण पंजाब की सड़कों पर बसों, ट्रकों, अन्य गाडिय़ों तथा मोटरसाइकिलों द्वारा किए जाते ध्वनि प्रदूषण में बड़ा सुधार हुआ है। चेयरमैन ने बताया कि मल्टीटोन हॉर्नों, प्रैशर हॉर्नों और पटाखायुक्तसाइलैंसरों से पैदा हुई ध्वनि निर्धारित सीमा 55 डैसीबल से कई बार 5 गुना ज्यादा तक भी रिकार्ड की गई है। इसका मानव तथा जीवों पर बुरा प्रभाव पडऩे के साथ-साथ मनोवैज्ञानिक प्रभाव भी पड़ता है और इनके साथ बड़ी घातक दुर्घटनाएं भी घटती हैं। कब्जे में 8000 व्हीकलों के 6500 प्रैशर हॉर्न लिए  पंजाब