पाकिस्तान के भ्रष्टाचार रोधी अधिकारियों ने अपदस्थ प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के दामाद को उनके खिलाफ लंबित भ्रष्टाचार के मामलों में आज यहां के हवाईअड्डे से गिरफ्तार कर लिया. राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (एनएबी) की टीम ने सेना के पूर्व कैप्टन मोहम्मद सफदर को हिरासत में ले लिया. वह कुछ ही मिनट पहले लंदन से अपनी पत्नी मरियम नवाज के साथ बेनजीर भुट्टो अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर उतरे थे, उसी वक्त उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया.  

पनामा लीक घोटाले के आरोप में फंसे पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की मुश्किलें थमने का नाम नहीं ले रही हैं. पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट ने उनकी पुनर्विचार याचिका को खारिज कर दिया है. इस याचिका में उनपर लगाए गए आरोपों के खिलाफ डाली गई थी, जिसपर सुनवाई करने से कोर्ट ने इनकार कर दिया है. साथ ही कोर्ट ने उनपर लगे बैन को बरकार रखा है। गौरतलब है कि पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को सुप्रीम कोर्ट ने पनामा पेपर मामले में दोषी करार दिया था. जिसके बाद उनके परिवार के सदस्यों ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले के

चीन ने शंघाई कोऑपरेशन ऑर्गनाइजेशन (एससीओ) की बैठक में पाकिस्तान को करारा झटका दिया है. बैठक के दौरान चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के साथ मुलाकात से मना कर दिया. खबरों के अनुसार बलूचिस्तान में दो चीनी शिक्षकों की हत्या के प्रति नाराजगी व्यक्त करने के लिए चीनी राष्ट्रपति ने यह अप्रत्याशित कदम उठाया. चीन के सरकारी मीडिया ने भी अपने राष्ट्रपति शी जिनपिंग की कजाखस्तान के राष्ट्रपति नूरसुल्तान नजरबायेव, भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रूसी राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन के साथ मुलाकात को खासी प्रमुखता दी. वहीं, पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ कजाखस्तान, उजबेकिस्तान, अफगानिस्तान और रूसी राष्ट्रपति से मुलाकात

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ एक बार फिर से मुश्किल में पड़ गए है. पाक में सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन और लाहौर हाईकोर्ट बार एसोसिएशन ने नवाज शरीफ को सात दिन के अंदर सत्ता छोड़ने का अल्टीमेटम दिया है, साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि अगर पीएम नवाज शरीफ ने सात दिनों में सत्ता नहीं छोड़ी, तो वे उनके खिलाफ देशभर में आंदोलन शुरू करेंगे. दोनों बार एसोसिएशन की ओर से जारी साझा बयान में कहा गया है, दोनों बार एसोसिएशन का मानना है कि पनामा पेपर्स मामले में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मद्देनजर प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को अब अपने